मंगलवार, 30 जुलाई 2013

To LoVe 2015: सावन का महीना. ..चतुर्मास और हम

 
सावन का पहला सोमवार गुजरा...देश के कई हिस्सों में इस समय सावन की झड़ी लगी हुई है...कई लोगो ने अंडे और मांसाहार का त्याग कर दिया है....इस बहाने कुछ समय तक शरीर वातावरण के मुताबिक खुद को ढाल लेगा....तीनों देवों में महादेव के साथ सभी देवता और पृथ्वी पर संन्यासियों और धर्म प्रचारकों का भी चातुर्मास शुरु हो चुका है...यानि पृथ्वी पर चार महीने सभी पुण्य आत्माएं एक जगह रहकर धर्म चर्चा...संकीर्तण...और हरि चर्चा करते हैं...यही भारत की परंपरा थी...यही भारत की संस्कृति थी....जिसने भारत को जगद् गुरु बनाया था...कितना पवित्र और कितना सुनियोजित जीवन दर्शन औऱ जीवनचर्या जीती हैं हमारी पुण्य आत्माएं.....पर अब कलयुग है...आधुनिक काल है...तो ऐसे में क्या करना चाहिए?....संतों के मुंह से सुना है कि कलियुग में सिर्फ कीर्तन से भगवान का सुमिरन करने से बेड़ा पार हो जाएगा....तो सावन के इस महीने में कीर्तन का सौभाग्य मिल जाए तो अहोभाग्य....अभी तीन महीने बाकी हैं औऱ अगर संतों की टोली मिल जाए तो हरि कथा सुनने को मनन करने को मिलने का सौभाग्य प्राप्त हो तो कितना सुंदर हो जाए मन..
अब संतों का डेरा...साधुऔं का हरिकीर्तन की गूंज इतनी आसानी से सुनाई नहीं देती....लोग सुबह शाम आज भी मंदिर जाते हैं...मंदिरों में कीर्तन भी होता है...सत्संग भी होता है...लोग जुटते भी हैं...पर वो आलौकिक आनंद नहीं मिलता है....आलौकिक आनंद तो दूर..अब तो शांति भी नसीब नहीं होती कई जगहों पर..ऐसा क्यों....आधुनिकता के समय में संगीत है...बड़े-बड़े स्पीकर हैं....माइक है...स्वामी जी हैं....कथा प्रवचन करने वाले महाराज जी हैं....पर फिर भी आनंद कम होता जा रहा है...पता नहीं हमारी आत्माएं पापी हैं या हमारी आत्माएं इतनी आहत हैं..इतनी अतृप्त है कि इन्हें क्षणिक शांति से भली हिंसक अशांति भाती है....वो या तो पूरी तरह शांत होना चाहती है या पूरी तरह से अशांति की गोद में लेटना चाहती है...लगता है हमारी अशांत आत्माएं बीच में झूलने के बजाए इस पार या उस पार जाना चाहती हैं....मगर इस चाहने न चाहने के चक्कर में हम घनचक्कर बन जाते है...।
      भौतिकता औऱ अध्यात्मिकता के बीच कितना आसानी से आया जाया जा सकता है ये सावन का महीना आसानी से बयां करता है....बारिश की बूंदे दिल के तारों को छेड़ देती हैं..कहीं ये तारे प्रियतमा की याद कर झंकृत होते हैं...तो कहीं पर घने काले बादलों का बरसता क्रोध महादेव के महाकाल रुप की याद दिला देते हैं...तो कहीं भोले बाबा भंडारी औऱ मां पार्वती के पवित्र प्रेम की कहानी से प्रेम की अमरता औऱ पवित्रता का बोध कराता है...सच में सावन जब झूम के आता है ...तो जाने कैसे-कैसे भौतिक-अध्यात्मिक..विचारों के बीच मन इतनी आसानी से विचरण करने लगता है मानो इन दोनो के बीच कोई अंतर नहीं हैं....भौतिकता के शिखर पर रहो या अध्यामिकता के शिखर पर....बस मन भोले भंडारी...क्षीरसागर वासी....संसार रचियता के रंग में रंगा रहना चाहिए..... ये क्या है पता नहीं...इतने भौतिक युग में हमें सावन का महीना भीगोता है.....ये बताता है कि कहीं न कही कोई न कोई ..पुरातन सूत्र अब भी जिंदा है हमारे मन में..।
/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

रविवार, 28 जुलाई 2013

To LoVe 2015: सम्मान : क्या भूलूं क्या याद करुं ?

मित्रों क्या भूलूं और क्या याद करूं, कुछ समझ में नहीं आ रहा है। दरअसल इस पोस्ट को लेकर मैं काफी उलझन में था। मैं समझ ही नहीं पा रहा हूं कि अपनी 200 वीं पोस्ट किस विषय पर लिखूं। वैसे तो आजकल सियासी गतिविधियां काफी तेज हैं, एक बार मन में आया कि क्यों न राजनीति पर ही बात करूं और देश की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी कांग्रेस से पूछूं कि 2014 में आपका प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन है ? फिर मुझे लगा कि इन बेचारों के पास आखिर इसका क्या जवाब होगा ? क्यों मैं इन पर समय बर्बाद करूं। बाद में मेरी नजर तथाकथित तीसरे मोर्चे पर गई, ममता, मायावती, मुलायम और नीतीश कुमार, इनमें से क्या कोई गुल खिला सकता है ? पहले तो लगा कि इस पर लिखा जा सकता है, लेकिन फिर सोचा कि मुलायम पर भला कौन भरोसा कर सकता है ? देखिए ना राष्ट्रपति के चुनाव में ममता को आखिरी समय तक गोली देते रहे, बेचारी कैसे बेआबरू होकर दिल्ली छोड़कर कलकत्ता निकल भागी। ऐसे में थर्ड फ्रंट पर तो किसी तरह की बात करना ही बेमानी है। एक बात और की जा सकती है, आजकल तमाम नेता सस्ते भोजन का ढिंढोरा पीट रहे हैं, कोई 12 रुपये में भोजन करा रहा है, कोई 5 रुपये में, एक नेता तो एक ही रुपये में भरपेट भोजन की बात कर रहे हैं। क्या बताऊं, एक रूपये में तो कुत्ते का बिस्कुट भी नहीं आता। अब नेताओं की तरह मैं तो सस्ते भोजन पर कोई बात नहीं कर सकता।

विषय की तलाश अभी भी खत्म नहीं हुई। मैने सोचा कि देश में एक बड़ा तबका खेल को बहुत पसंद करता है। इसलिए खेल पर ही कुछ बातें करूं। लेकिन आज तो देश में खेल का मतलब सिर्फ क्रिकेट है। बाकी खेल तो हाशिए पर हैं। अब क्रिकेट की आड़ में जो आज जो कुछ भी चल रहा है, ये भी किसी से छिपा नहीं है। मैं तो अभी तक क्रिकेट का मतलब सुनील गावस्कर, कपिल देव, सचिन तेंदुलकर समझता था, लेकिन अब पता  लगा कि मैं गलत हूं। आज क्रिकेट का मतलब है बिंदु दारा सिंह, मयप्पन और राज कुंद्रा। आईपीएल के दौरान टीवी चैनलों पर जितनी चर्चा खेल की नहीं हुई, उससे कहीं ज्यादा चर्चा सट्टेबाजी की हो गई। वैसे बात सिर्फ सट्टेबाजी तक रहती तो हम एक बार मान लेते कि इसमें गलत क्या है, कई देशों में तो सट्टेबाजी को मान्यता है। हमारे देश में भी ऐसा कुछ शुरू हो जाना चाहिए। लेकिन यहां तो क्रिकेट की आड़ में हो रहा ऐसा सच सामने आया कि इस खेल से ही बदबू आने लगी। बताइये खिलाड़ियों को लड़की की सप्लाई की जा रही है, चीयर गर्ल को भाई लोगों ने कालगर्ल बना कर रख दिया। खिलाड़ी मैदान के बदले जेल जा रहे हैं। फिर जिस पर क्रिकेट को बचाए रखने की जिम्मेदारी है, उसी श्रीनिवासन की भूमिका पर उंगली उठ रही है। टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की पत्नी स्टेडियम में उस बिंदु दारा सिंह के साथ मौजूद दिखी, जिस पर गंभीर ही नहीं घटिया किस्म के आरोप लग रहे हैं। अब ऐसे क्रिकेट पर लिख कर मैं तो अपना समय नहीं खराब कर सकता। क्रिकेट आप सब को ही मुबारक !

खेल को खारिज करने के बाद मैने सोचा कि चलो मीडिया पर चर्चा कर लेते हैं। आजकल मीडिया बहुत ज्यादा सुर्खियों में है। हर मामले में अपनी राय जाहिर करती है। फिर कुछ दिन पहले बड़ा भव्य आयोजन भी हुआ है, पत्रकारों को उनके अच्छे काम पर रामनाथ गोयनका अवार्ड से नवाजा गया है। इसलिए मीडिया को लेकर कुछ अच्छी-अच्छी बाते कर ली जाएं। सच बताऊं मुझे तो यहां भी बहुत निराशा हुई। इस अवार्ड में भी ईमानदारी का अभाव दिखाई देने लगा है। मेरा व्यक्तिगत मत है कि ये अवार्ड पत्रकारों को सम्मानित नहीं करता है, बल्कि कुछ बड़े नाम को बेवजह इसमें शामिल कर खुद ये अवार्ड ही सम्मानित होता है। अंदर की बात ये है कि जब बड़े नाम शामिल होते हैं, तभी तो ये खबर टीवी चैनलों पर चलती है। मैं इस बिरादरी से जुड़ा हूं इसलिए ज्यादा टीका टिप्पणी नहीं करूंगा, लेकिन मुझे दो बातें जरूर कहनी है। पहला तो मैं ये जानना चाहता हूं कि किस ईमानदार जर्नलिस्ट की पसंद थे सीबीआई डायरेक्टर रंजीत सिन्हा। ये विवादित हैं, इनकी ईमानदारी संदिग्ध है, इनके कार्यकाल में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को "तोता" तक कह दिया। रामनाथ गोयनका अवार्ड एक "तोता" बांटेगा और वो "तोता" सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के बराबर खड़ा है। मैने जब इन्हें मंच पर पत्रकारों को पुरस्कार देते हुए देखा तो सच में मन बहुत खिन्न हुआ। एक बात और जो मुझे ठीक नहीं लगी। मैं एनडीटीवी के रवीश कुमार का प्रशंसक हूं, लेकिन मैं प्रशंसक उनकी रिपोर्टिंग के लिए बल्कि उनके प्राइम टाइम एंकरिंग के लिए हूं। दिल्ली की एक बस्ती खोड़ा की दिक्कतों पर स्टोरी करने के लिए उन्हें ये अवार्ड दिया गया। मुझे लगता है कि एनडीटीवी में ही एक कम उम्र का रिपोर्टर है, उसने दिल्ली की तमाम कालोनियों की मुश्किलों को और बेहतर तरीके से जनता तक पहुंचाया है। अब देखिए मैं तो जर्नलिस्ट हूं, जब मुझे ही इस रिपोर्टर का नाम नहीं मालूम है तो भला रामनाथ गोयनका अवार्ड देने वालों को ये नाम कैसे याद हो सकता है। ये हाल देख मैने मीडिया से भी किनारा कर लिया।

अब सोचा कि बात नहीं बन रही है तो चलो सामयिक विषय पर एक चार लाइन की कविता लिखते हैं, वैसे भी 200 वीं पोस्ट को भला कौन गंभीरता से पढ़ता है। सब पहली लाइन पढ़ कर 200 वीं पोस्ट की बधाई देकर निकल जाते हैं। अच्छा है कि चार छह लाइन की अच्छी सी कविता लिख दी जाए। लेकिन जब भी बात कविता की होती है, मेरे रोंगटे खडे हो जाते हैं। आप सोच रहे होंगे कि आखिर ऐसा क्या है कि कविता पढ़कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। क्यों ना खड़े हों, अब ब्लाग पर कविता ही ऐसी लिखी जा रही है। आलू, बैगन, टमाटर, गाजर, मूली, खीरा, तरबूज, गर्मी, ठंड, बरसात, लू जब कविता का विषय हो तो आसानी से समझा जा सकता है कि कविता कितने निचले पायदान तक पहुंच गई है। कुछ लोगों ने बहुत कोशिश की तो कविता की आड़ में आत्मकथा परोस दी। ब्लाग पर प्यार पर बहुत सारी कविताएं मिलती हैं, लेकिन ज्यादातर कविताओं में प्यार से जुड़े शब्दों की तो भरमार होती है, लेकिन कविता में वो अहसास नहीं होता, जो जरूरी है।

इन्हीं उलझनों के बीच मेरी निगाह काठमांडू गई। मैंने सोचा चलो 200 वीं पोस्ट अपने ब्लागर मित्रों को समर्पित करते हैं और उन्हें बेवजह ठगे जाने से बचने के लिए पहले ही आगाह कर देते हैं। क्योंकि यहां कुछ लोग एक बार फिर बेचारे सीधे-साधे ब्लागरों को सम्मान देने के नाम पर उनका बाजा बजा रहे हैं। हालाकि जैसे ही मैं इनके चेहरे से नकाब उतारूंगा, ये गाली गलौज पर उतारू हो जाएंगे, ये सब मुझे पता है। लेकिन अगर सच जानने के बाद एक भी ब्लागर ठगे जाने से बचता है तो मैं समझूंगा कि मेरी कोशिश कामयाब रही। आपको पता ही है कि एक गिरोह जो अपने सम्मान का कद बढाने के लिए इस बार उसका आयोजन देश से बाहर कर रहा है। अब क्या कहा जाए! इन्हें लगता है कि सम्मान समारोह देश के बाहर हो तो इसका दर्जा अंतर्राष्ट्रीय हो जाता है। हाहाहाहाहाह....। इस सम्मान की कुछ शर्तें है, सम्मान उन्हें मिलेगा जो वहां जाएंगे, वहां वही लोग जा पाएंगे जो पहले अपना पंजीकरण कराएंगे, पंजीकरण वही करा पायेगा जिसके पास 4100 रुपये होगा। सम्मानित होने वालों को कुछ और जरूरी सूचनाएं पहले ही दे दी गई हैं। जिसमें सबसे महत्वपूर्ण ये कि एक कमरे में तीन लोगों को रहना होगा। इसके अलावा आधा दिन उन्हें नान एसी बस से काठमांडू की सैर कराई जाएगी, लेकिन यहां प्रवेश शुल्क सम्मानित होने वालों को खुद देना होगा।

पता नहीं आप जानते है या नहीं भारत का सौ रुपया नेपाल में लगभग 160 रुपये के बराबर होता है। हो सकता है कि पैसे वाले ब्लागर चाहें कि वो आलीशान होटल में रहें, वो क्यों तीन लोगों के साथ रुम शेयर करेंगे। पैसे से कमजोर ब्लागर किफायती होटल में रहना चाहेगा। मेरा एक सवाल है कि जब लोग अपने मनमाफिक साधन से नेपाल तक का सफर कर सकते हैं, तो उनके रुकने का ठेका आयोजक क्यों ले रहे हैं ? अब देखिए कुछ लोग वहां हवाई जहाज से पहुंच रहे होंगे, कुछ बेचारे ट्रेन से गोरखपुर जाकर वहां से बार्डर क्रास कर सकते हैं, उत्तराखंड वाले बनबसा से बस में सफर कर सकते हैं। मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि ये ब्लागर सम्मेलन है या किसी कंपनी के एजेंट का सम्मेलन है ? कोई जरूरी नहीं है कि सभी ब्लागर 4100 रुपये पंजीकरण शुल्क दे सकते हों, ब्लाग लिखने के लिए नौकरी करना जरूरी नहीं है। बहुत सारे स्टूडेंट भी ब्लागर हैं। वो भारी भरकम पंजीकरण शुल्क नहीं दे सकते। फिर आने जाने के अलावा दो तीन हजार रूपये जेब खर्च भी जरूरी है। ऐसे में जिसकी जितनी लंबी चादर है वो उतना ही पैर फैलाएगा ना। ऐसे में भला इसे ब्लागर सम्मान समारोह कैसे कहा जा सकता है ?    

हास्यास्पद तो ये है कि बेचारे सम्मानित होने वालों की सूची एक साथ जारी नहीं कर सकते। वजह जानते हैं, जिनका पंजीकरण शुल्क नहीं आया है, उनके नाम पर विचार कैसे किया जा सकता है? अभी पंजीकरण 13 अगस्त तक खुला हुआ है, मतलब सम्मानित होने वालों के नाम का ऐलान तब तक तो चलता ही रहेगा। मैं देख रहा था कि जो नाम जारी हुए हैं, ये वो नाम हैं जो मई में ही सम्मान समारोह में जाने का कन्फर्म कर शुल्क भी जमा कर चुके थे, इसलिए सम्मान की सूची में उनके नाम आने लगे हैं। वैसे सम्मान की सूची वहां जब जारी होगी तब देखा जाएगा, लेकिन कुछ नाम तो मुझे भी पता है जिनका नाम जल्दी ही जारी होने वाला है। हां अगर आपको भी नाम जानना है तो उस पोस्ट पर चले जाएं, जहां बताया गया था कि इन-इन ब्लागरों ने आना कन्फर्म कर दिया है, जिनके नाम कन्फर्म समझ लो सम्मान तय है। क्योंकि एक्को ठो ऐसा ब्लागर नहीं मिलेगा जिसको सम्मान ना मिल रहा हो, फिर भी ऊ काठमाडू जा रहा हो।

अब देखिए, जो ब्लागर देर से पंजीकरण करा रहे हैं वो बेचारे तो बड़े वाले सम्मान से चूक गए ना, जिसमें कुछ रकम भी मिलनी है। लेकिन है सब घपला। ध्यान देने वाली बात ये है कि सम्मान कार्यक्रम में बाकी सब बता दिया, ये किसी को नहीं मालूम कि निर्णायक मंडल में कौन कौन है ? अच्छा निर्णायक मंडल के पास ब्लाग का नाम भेजा गया है, ब्लागर का नाम भेजा गया है या फिर ब्लागर का लेख, कहानी, कविता क्या भेजी गई है, जिस पर अदृश्य निर्णायक मंडल निर्णय ले रहा है। ये तो आप जानते हैं कि कोई निर्णायक मंडल पूरा ब्लाग तो देखने से रहा। अगर उनके पास रचनाएं भेजी गईं है, तो सवाल उठता है कि ये रचनाएं ब्लागरों से आमंत्रित किए बगैर कैसे भेजी जा सकती है। दरअसल इन सब के खेल को समझ पाना बड़ा मुश्किल है। अच्छा हिंदी वाले तो ज्यादातर लोग समझ गए हैं इनकी चाल को, तो अब इसका दायरा बढ़ाना था। इसलिए कह रहे हैं कि इस बार भोजपुरी, मैथिल और अवधी को भी सम्मान दिया जाएगा। लग रहा है कुछ नए ब्लागर और फस गए हैं। वैसे इनकी नजर में नेपाली भाषा भी क्षेत्रीय भाषा है, इसमें भी सम्मान की संभावना है।

खैर छोड़िए, जिसकी जैसे चले, चलती रहनी चाहिए। इतनी बातें लिखने का मकसद सिर्फ ये है कि आप सब कोई मूर्ख थोड़े हैं, सजग रहिए। आप ब्लागर है, पढे लिखे लोग है। आपको अपनी बौद्धिक हैसियत नहीं पता है ? अब तक सम्मान के लिए कुछ नाम जो सामने आए है, दो एक लोगों को छोड़ दीजिए, बाकी लोग दिल पर हाथ रख कर सोचें कि क्या उनकी लिखावट में इतनी निखार है कि वो सम्मान के हकदार हैं। नेपाल जाना है, बिल्कुल जाइए, लेकिन इस फर्जीवाड़े के लिए नहीं, बच्चों को साथ लेकर बाबा पशुपतिनाथ के दर्शन कीजिए, हो  सकता है कि उनके आशीर्वाद से लेखनी में और निखार आ जाए। हैराऩी इस बात पर भी हो रही है कि कुछ ब्लागर मित्र जो पिछले सम्मान के दौरान मुझे इसकी खामियां गिनाते नहीं थकते थे और आयोजकों को गाली दे रहे थे वो आज उनके सबसे बड़े प्रशंसक हैं। चलिए आज बस इतना ही इस मामले में तो आगे भी आपसे बातें होती रहेंगी।






/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

मंगलवार, 23 जुलाई 2013

To LoVe 2015: हिन्दू-मुस्लिम एकता की प्रतीक: एक दरगाह





सूफी संत हाजी वारिस अली शाह की देवाशरीफ स्थित दरगाह------------------------------------------------------------------उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है 'बाराबंकी'.यह लखनऊ से २९ किलमीटर पूरब में स्थित है ।बाराबंकी को नवाबगंज के नाम से भी जाना जाता है.यह जगह ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह काफी महत्वपूर्ण है।इस जगह पर कई राजाओं ने लम्बे समय तक शासन कियादेवाशरीफ स्थित दरगाह लखनऊ से 42 किलोमीटर और

सोमवार, 22 जुलाई 2013

To LoVe 2015: BJP के लिए खतरा बन रहे आडवाणी !

भारतीय जनता पार्टी के काफी बड़े नेता हैं लालकृष्ण आडवाणी और आजकल वो पार्टी को नुकसान भी काफी बड़ा पहुंचा रहे हैं। दिग्गज और कद्दावर नेताओं का काम है कि वो पार्टी को एकजुट, एकस्वर और एकराय रखें, लेकिन समय-समय पर आडवाणी जिस तरह रियेक्ट कर रहे हैं, उससे कार्यकर्ताओं में संदेश यही जा रहा है सारी खुराफात के पीछे आडवाणी की व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा है। आपको याद दिला दूं जब देश के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी थे और पार्टी के अध्यक्ष पद की कमान वैंकेयानायडू के पास थी तो एक मीटिंग में नायडू ने इतना भर कहा कि अटल जी विकास पुरुष हैं और आडवाणी लौहपुरुष हैं। अटल जी इशारा समझ गए कि उनके खिलाफ अंदरखाने क्या कुछ चल रहा है, उन्हें दो मिनट नहीं लगा और वहीं ऐलान कर दिया कि  " ना टायर्ड, ना रिटायर्ड, आडवाणी जी के नेतृत्व में विजय पथ पर प्रस्थान "। सच बताऊं उस वक्त तो पार्टी का धुआँ निकल गया था। अटल को महान यूं ही नहीं कहा जाता है, वो आदमी को उसके बोलने से नहीं, उसके बैठने के अंदाज से समझ लिया करते थे कि सामने वाले के मन में क्या चल रहा है। बहरहाल अब वो बात पुरानी हो गई है, लेकिन जो हालात हैं उसे देखते हुए तो मुझे ये कहने में भी गुरेज नहीं है कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ सब कुछ सामान्य रहता तो वो कुछ दिन और राजनीति में सक्रिय भूमिका निभा सकते थे। खैर आज तो बारी आडवाणी की है।

लालकृष्ण आडवाणी के बारे में कुछ लिखने से पहले मैं ये भी साफ करना चाहूंगा कि बीजेपी को सत्ता के शिखर तक पहुंचाने में उनकी भूमिका की अनदेखी कत्तई नहीं की जा सकती। अगर मैं ये कहूं कि केंद्र में बीजेपी की सरकार बनवाने में उनकी भूमिका सबसे ज्यादा और महत्वपूर्ण रही है, तो बिल्कुल गलत नहीं होगा। लेकिन आडवाणी ने अगर पार्टी को ऊंचाई दी तो पार्टी ने भी उन्हें निराश नहीं किया। मेरा मानना है कि अटल जी की सरकार में उप प्रधानमंत्री रहते हुए जो सम्मान आडवाणी का रहा है, वो सम्मान आज तो देश के प्रधानमंत्री का नहीं है। अच्छा फिर ऐसा भी नहीं है कि पार्टी में उन्हें अवसर नहीं मिला, अटल के बाद वही पार्टी के चेहरा बने। उन्हीं की अगुवाई में 2009 का चुनाव लड़ा गया, लेकिन पार्टी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा। बाद में वो खुद अपनी वजह से विवादों में आ गए और यहां तक कि उन्हें नेता विपक्ष का पद भी छोड़ना पड़ा। मुझे लगता है कि जब उनकी इच्छा के खिलाफ उन्हें नेता विपक्ष से हटाया गया, उस वक्त वो विरोध में आवाज उठाते तो शायद एक बार उन्हें देश और पार्टी कार्यकर्ताओं का समर्थन मिलता, लेकिन उस वक्त तो वो खामोश रहे। सवाल ये उठता है कि अब विरोध क्यों ?

सब जानते हैं कि एक समय में खुद आडवाणी ही नरेन्द्र मोदी के सबसे बड़े समर्थक और उनके प्रशंसक रहे हैं। याद कीजिए गुजरात दंगे के बाद जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात में कहा कि " मोदी को राजधर्म का पालन करना चाहिए था " तो आडवाणी ही बचाव में आगे आए। कहा तो ये भी गया कि अटल जी चाहते थे कि मोदी से इस्तीफा ले लिया जाए, लेकिन आडवाणी की वजह से उनका इस्तीफा नहीं हुआ। फिर आज ऐसा क्या हो गया कि आडवाणी को मोदी का बढ़ता कद खटक रहा है। सच्चाई ये है कि  आज भाजपा में खेमेबंदी मोदी बनाम आडवाणी है। सब जानते हैं कि किसी जमाने में पार्टी के दो शीर्ष नेता आडवाणी और वाजपेयी के दो अलग-अलग खेमें थे। उन दिनों मोदी पार्टी में आडवाणी के प्रमुख सिपहसलार माने जाते थे। आडवाणी की नीतियों को प्रोत्साहित करने में लगे मोदी का आज वही आडवाणी विरोध कर रहे हैं। हालाकि पहले वाजपेयी ने आडवाणी को पत्र लिखकर सूचित किया था कि मोदी जैसे चरित्र का प्रोत्साहन न ही पार्टी हित में है और न ही देशहित में। उस समय आडवाणी ने मोदी का पक्ष लिया था, उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई न हो, इसके लिए वो एक मजबूत दीवार बनकर सामने खड़े हो जाते थे।

सच यही है कि आडवाणी की महत्वाकांक्षा का परिणाम है कि 2005 में उन्होंने पाकिस्तान यात्रा के दौरान जिन्ना को सेकुलर बताकर अपनी छवि सुधारने की कोशिश की। ऐसा करके उन्होंने एनडीए के घटक दलों के नेताओं को भले ही अपने पक्ष में कर लिया हो पर संघ की नाराजगी जगजाहिर हो गयी। वैसे भी संघ परिवार और भाजपा का समीकरण बनता-बिगड़ता रहा है। बहरहाल आज हालात ये है कि मोदी के पीछे पूरा संघ परिवार मजबूती से खड़ा है। पार्टी के नेताओं को भी साफ कर दिया गया कि अगले चुनाव में मोदी ही पार्टी के मुख्य चेहरा रहेंगे। संघ ने यहां तक इशारा कर दिया है कि इसके लिए अगर एनडीए के घटक दल दूर भागते हैं तो उनकी मर्जी, लेकिन पार्टी अब मोदी के नाम पर पीछे नहीं हटेगी। जब बीजेपी और संघ परिवार ने मन बना लिया कि नरेन्द्र मोदी को आगे करके चुनाव लड़ा जाएगा तो आडवाणी खुलकर मैदान में आ गए। उन्होंने पार्टी के तमाम महत्वपूर्ण पदों से इस्तीफे का ऐलान कर दिया। उनके इस्तीफे के बाद थोड़ी हलचल मचनी ही थी, मची भी। लेकिन उनकी कोई बात नहीं मानी गई। मुझे तो लगता है कि आडवाणी के इस कदम से उन्हीं  की जगहंसाई हुई। देश को पता चल गया कि अब उनकी पार्टी में उतनी मजबूत हैसियत नहीं रह गई है।

हालांकि राजनीति में अटकले ही लगाई जा सकती हैं, नेताओं की अंदरखाने हुई बातचीत का कोई प्रमाण तो नहीं हो सकता, लेकिन चर्चा यही है कि एनडीए से बाहर जाने की जोखिम उठाने की हैसियत जेडीयू की नहीं थी। लेकिन नीतीश कुमार को लगा कि जब वो बाहर जाने की धमकी देगें तो संघ परिवार घुटने टेक देगा। पर ऐसा नहीं हुआ, बात चूंकि काफी आगे बढ़ चुकी थी, लिहाजा नीतीश कुमार ने अलग रास्ता चुन लिया। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि अगर आडवाणी चाहते तो वो इस मामले में एक बीच का रास्ता निकाल सकते थे, लेकिन सभी लोग ये संदेश देनें में जुट गए कि मोदी के नाम पर बहुत विरोध है। भाजपा के इतने वरिष्ठ नेता और विशेष रूप से पार्टी के संस्थापक सदस्य से ऐसी उम्मीद नहीं थी कि वह अपनी नाराजगी प्रकट करने के लिए इस हद तक चले जाएंगे। यह तो जग जाहिर था कि लालकृष्ण आडवाणी इस बात से नाराज हैं कि उनके न चाहते हुए भी नरेंद्र मोदी को चुनाव प्रचार अभियान समिति का प्रमुख बनाया गया, लेकिन इसकी कल्पना शायद ही किसी को रही हो कि वह इस कदर नाराज हो जाएंगे कि एक तरह से अपने ही द्वारा सींचे गए पौधे को हिलाने का काम कर बैठेंगे।

नरेन्द्र मोदी को हल्का साबित करने के लिए आडवाणी ने कोई कसर बाकी नहीं रखी। यहां तक की उन्होंने इशारों-इशारों में मोदी के मुकाबले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान को ज्यादा कारगर मुख्यमंत्री बता दिया और कहाकि गुजरात पहले से विकसित राज्य रहा है, लेकिन बीमारू राज्य को स्वस्थ बनाने का काम शिवराज ने किया है। लेकिन आडवाणी भूल गए कि शिवराज और उनकी पत्नी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगते रहे हैं। मोदी के खिलाफ कम से कम इस तरह का कोई आरोप तो नहीं है। आडवाणी के समर्थन का ही नतीजा है कि आज चौहान ने मध्यप्रदेश में निकाली अपनी यात्रा में मोदी का चित्र लगाना बेहतर नहीं समझा। सवाल ये है कि पार्टी जिस नेता को लोकसभा चुनाव का मुख्य चेहरा बता रही है। इतना ही नहीं पार्टी के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने अमेरिका में ऐलान किया कि अगर पार्टी को बहुमत मिलता है तो मोदी ही प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे। इन तमाम बातों के बाद भी क्या शिवराज सिंह चौहान की ये हैसियत है कि वो मोदी से किनारा करने की कोशिश करेगे। बिल्कुल नहीं, बस उन्हें दिल्ली में बैठे कुछ कद्दावर नेता गुमराह कर रहे हैं। वरना लोकप्रियता में चौहान के मुकाबले मोदी कई गुना आगे हैं।

सच्चाई ये है कि मोदी जब दिल्ली आते हैं तो मीडिया को पार्टी के ही कुछ नेता अंदरखाने ब्रीफिंग कर पार्टी के संसदीय बोर्ड में हुई बातचीत का ब्यौरा देते हैं। जिसमें ये बताने की कोशिश की जाती है कि मोदी पर नकेल कस दिया गया है। मोदी जो चाहेंगे वो नहीं कर पाएंगे, बल्कि आडवाणी और उनके करीबी नेता जो चाहेंगे वही अंतिम फैसला होगा।  अब विरोधी दलों के लिए भला इससे बेहतर और क्या हो सकता है कि जब भाजपा को एकजुट होकर आगे बढ़ना चाहिए, तब वह लड़खड़ाती हुई नजर आ रही है। हालत ये हो जाती है कि कई बार पार्टी के भीतर से वो आवाज बाहर आती है जो बात कांग्रेस के नेताओं से उम्मीद की जाती है। मोदी को कमजोर साबित करने के लिए कुछ नेताओं ने हवा उड़ाई की पार्टी के वरिष्ठ नेता मोदी को रिपोर्ट करने को राजी नहीं है। मुझे तो इस बात पर हंसी आती है, क्योंकि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की हैसियत ये है कि उनकी कुर्सी छीन कर जूनियर नेताओं को दे दी जा रही है, तब तो उनकी आवाज निकलती नहीं है, मोदी को रिपोर्ट करने से मना करने की हैसियत मुझे तो नहीं लगता कि किसी में है। बहरहाल मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना है कि अगर समय रहते आडवाणी पर लगाम नहीं लगाया गया तो वो आने वाले समय में पार्टी के लिए एक बड़ी मुसीबत बन सकते हैं।






/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

To LoVe 2015: 'ईंटों से बना 'भारत का सबसे पुराना किला..




पुरातत्व शोधों के अनुसार उत्तरी पंजाब में मानव सभ्यता के चिन्ह ईसा पूर्व ४०,००० सालों से दिखाई दिए हैं.७००० साल ईसा पूर्व इंसान ईंट मिट्टी के झोंपड़े बना कर रहते थे,भेड़ बकरियां पाला करते थे.इनके चिन्ह आज भी यहाँ मिलते हैं.१५ AD में यहाँ कुषाण साम्राज्य की स्थापना हुई.

पंजाब राज्य के मालवा इलाके में लखी जंगल में तीसरी सदी में राओ भाटी द्वारा 'बठिंडा शहर' स्थापित किया गया था. बाल

सोमवार, 15 जुलाई 2013

To LoVe 2015: मारकंडेय काटजू बोले तो निर्मल बाबा !

मैं आज बात करूंगा भारतीय प्रेस परिषद के चेयरमैन पूर्व जस्टिस मारकंडेय काटजू की। मेरी नजर में मारकंडेय काटजू बोले तो समझिए निर्मल बाबा ! जिस तरह से निर्मल बाबा के पास हर समस्या का समाधान है, कुछ इसी तरह का व्यवहार कर रहे हैं आजकल काटजू साहब। हालाकि उनके पास समस्या का कोई समाधान नहीं है, बस एक उंगली जो हर मसले पर करते रहते हैं। पहली नजर में तो यही लगता है कि दोनों प्रचार के भूखे हैं, दोनों को लगता है कि वो बहुत जानकार हैं, दोनों को लगता है कि उनकी बातों को अगर देशवासी माने तो वो तरक्की कर सकते हैं। आपको बता दूं कि दोनों में अंतर भी बहुत मामूली है। जानते हैं क्या ? एक टीवी पर आने के लिए पैसा देता है, दूसरा अपने विवादित बातों से टीवी पर जगह बनाने में कामयाब हो जाता है। ये तो सही बात है दोनों मीडिया में किसी तरह जगह बनाने में कामयाब हो ही जाते हैं। अब निर्मल बाबा की तो ब्रांडिग हो चुकी है, उनके तो चरणों में कोटि कोटि नमन करने के लिए देश भर से लोग पैसा देकर जुटते हैं, पर अभी काटजू साहब के साथ ऐसा नहीं है। उन्हें अभी भी समाज का एक बड़ा तपका समझ नहीं पा रहा है कि आखिर काटजू साहब चाहते क्या हैं ? वो पूर्व जस्टिस रहे हैं, लेकिन आज जब भी किसी चर्चित मामले में सु्प्रीम कोर्ट किसी कोई सजा सुनाती है, तो ये उसके हमदर्द बन जाते हैं। कोर्ट के हर महत्वपूर्ण फैसले पर उन्हें आपत्ति है। चलिए मैं दूसरो से क्यों पूछूं, सीधे उन्हीं से पूछता हूं, काटजू साहब आप ठीक तो हैं ना ?    

निर्मल बाबा के समागम को देखता हूं, उनके पास ज्यादातर अपर मीडिल क्लास मरीज आते हैं। अपर मीडिल इसलिए कि उनके पास खाने को रोटी है, पहनने को कपड़े हैं और रहने को मकान भी है। इनका तकनीकि ज्ञान भी ठीक ठाक है, क्योंकि वो समागम की आँनलाइन बुकिंग कराकर आते हैं, ये सब मोबाइल इस्तेमाल करने वाले लोग हैं। इन्हें पता है कि बैंक में पैसा कैसे जमा किया जाता है और कैसे निकाला जा सकता है। इन सबके घरों पर टीवी वगैरह भी है, वरना बाबा के बारे में कैसे जानते। चूंकि अपर मीडिल क्लास के लोग हैं, लिहाजा इनकी समस्याएं भी उसी तरह की हैं। ज्यादातर की समस्या इन्वेस्टमेंट की है, वो समझ नहीं पा रहे हैं कि किस क्षेत्र में दांव लगाएं। ये बताते हैं कि उनका कारोबार पटरी से उतर गया है, बाबा उन्हें बताते हैं कि तुम जलेबी खा रहे हो, ये तो ठीक है, लेकिन शाम की बजाए अब सुबह खाओ, कृपा आनी शुरू हो जाएगी। कई लोग अब बाबा से बीजा की भी बात करते हैं। कहते हैं बाबा अमेरिका का बीजा नहीं मिल रहा है, बाबा पूछते हैं कभी मंदिर मे हलुवे का प्रसाद चढ़ाया, मरीज बताते हैं कि हां चढ़ाया था, बाबा का सवाल आता है कि सूजी का चढ़ाया या आंटे का ? भक्त बोला बाबा मैने सूजी का हलुवा चढ़ाया। बाबा ने गलती पकड़ ली और कहा कि जाओ अब आटे का हलुवा चढ़ाना और थोड़ा हलुवा गरीबों में भी बांट देना। कृपा भी आएगी और बीजा भी मिल जाएगा।

समागम सुनता हूं तो मुझे हैरानी इस बात पर होती है कि यहां तमाम लोग ऐसे भी मिल जाते हैं जिन्हें वाकई बाबा के इलाज से फायदा हुआ है। वो टीवी पर बोलते हैं कि बाबा कल तक वो बिल्कुल सड़क पर थे, पर आज आपके हलुवा, चटनी, समोसे की बदौलत करोडों के मालिक हैं।    अब ये अजीबो गरीब समागम भी काफी हाईटैक हो गया है। यहां आप बच्चे का इंजीनियरिंग या मेडिकल कालेज में ही नहीं लोवर केजी या अपर केजी में एडमिशन ना हो रहा हो तो आ सकते हैं, बेटी की शादी नहीं हो रही है तो आ सकते हैं, प्लाट खरीदना है तो भी आइये, बेचना है और बढिया कीमत नहीं मिल रही है तो भी आ सकते हैं, वैष्णो देवी मंदिर जाना है तो ट्रेन का वेटिंग टिकट कन्फर्म कराने के लिए भी आ सकते हैं, आपके पास छोटी गाड़ी है, आप चाहते बड़ी गाड़ी हैं तो इसके लिए भी यहां आ सकते हैं, नौकरी है, लेकिन नौकरी बदलनी है इसका भी इलाज बाबा के पास है। गर्दन, पीठ, कमर, घुटने, एडी इन सबके दर्द का भी इलाज अब यहां होने लगा है। माफ कीजिएगा बाबा के पास अभी सेक्स समस्याओं का इलाज नहीं है, वो इसलिए भी नहीं है कि बाबा के समागम का शो टीवी चैनलों पर दिन में चलता है, इसलिए उसमें इसके इलाज के बारे में बाबा बात नहीं कर सकते।

ओह ! लगता है कि मुझे भी इलाज की जरूरत है। मैं बात करने आया था पूर्व जस्टिस, भारतीय प्रेस परिषद के चेयरमैन मारकंडेय काटजू की और बात करने लगा निर्मल बाबा की। खैर कोई बात नहीं, मुझे पता है कि आप तो मनोरंजन कर रहे हैं, अब मनोरंजन चाहे निर्मल बाबा से हो या काटजू साहब से, बात तो एक ही है। जिस तरह निर्मल बाबा किस समस्या का क्या इलाज बता देगें आप बिल्कुल अनुमान नहीं लगा सकते, उसी तरह काटजू साहब भी गंभीर से गंभीर मसलों पर अपनी क्या राय रख देगें, समझ से परे है। हम सब जानते हैं कि अभिनेता संजय दत्त अपराधी नहीं है, लेकिन खतरनाक प्रतिबंधित शस्त्र उसके पास से बरामद हुआ है। फिर 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के मामले से ये मसला जुड़ा हुआ है। ऐसे में संजय को कैसे बरी किया जा सकता है ? देश में अभी न्याय बचा है ना। संजय दत्त को सजा हुई तो काटजू साहब उसकी पैरवी में आ धमके। राज्यपाल से लेकर राष्ट्रपति तक को चिट्ठी लिख मारी। इतना ही नहीं इसी मामले की एक अन्य दोषी जैबुनिस्सा काजी को माफी देने की वकालत करने से भी पीछे नहीं रहे। खैर संजय दत्त के मामले में बोलकर काटजू साहब दो तीन दिन मीडिया में जगह बनाने में जरूर कामयाब हो गए।

आप सबको याद होगा काटजू साहब देश के निर्वाचन प्रणाली से खासे नाराज दिखाई देते हैं। एक  बार तो उन्होंने तो देश की जनता की तुलना भेड़ बकरी से की और कहाकि यहां की जनता भेड़ और बकरी की तरह वोट करती है। काटजू ने कहा, नब्बे प्रतिशत भारतीय भेड़-बकरियों की तरह मतदान करते हैं। लोग जानवरों के झुंड की तरह बिना सोचे-समझे जाति और धर्म के आधार पर मतदान करते हैं। ऐसे ही भारतीय मतदाताओं के समर्थन के कारण ही कई अपराधी संसद में हैं। काटजू साहब यहीं नहीं रुके, उन्होंने यहां तक कहा कि वह मतदान नहीं करेंगे क्योंकि देश को कुछ ऐसे नेता चला रहे हैं जो अपनी जाति के कारण चुने जाते हैं। यह लोकतंत्र का असली रूप नहीं है। उन्होंने कहा, मैं मतदान नहीं करता क्योंकि मेरा मत निरर्थक है। मतदान जाट, मुस्लिम, यादव या अनुसूचित जाति के नाम पर होता है। काटजू साहब की बातों से कुछ हद तक मैं सहमत भी हूं। उनकी ये चिंता जायज है कि आज संसद और विधानसभा में तमाम आपराधिक छवि के लोग चुनाव जीत कर पहुंच रहे हैं। देश के लिए ये वाकई चिंता का विषय है।

लेकिन जब इस मामले में कहीं से कोई कार्रवाई नहीं होती दिखाई दी तो सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया और कहाकि जेल ही नहीं, पुलिस हिरासत में आने वाला व्यक्ति भी लोकसभा और विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ पाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा है कि जो व्यक्ति मतदान करने के लिए अयोग्य है, वह चुनाव लड़ने के योग्य कैसे हो सकता है ? न्यायमूर्ति एके पटनायक और सुधांशु ज्योति मुखोपाध्याय की पीठ ने पटना हाई कोर्ट के फैसले पर मुहर लगाते हुए यह व्यवस्था दी है। पीठ ने मुख्य चुनाव आयुक्त व अन्य की याचिकाएं खारिज करते हुए कहा कि उन्हें पटना हाईकोर्ट के फैसले में कोई खामी नजर नहीं आती। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि पटना हाई कोर्ट ने 30 अप्रैल 2004 को दिए फैसले में कहा था, 'मत देने का अधिकार "कानूनी अधिकार" है। कानून व्यक्ति को यह अधिकार देता है और कानून इसे ले भी सकता है। अदालत से किसी अपराध में दोषी ठहराया गया व्यक्ति लोकसभा, राज्य विधानसभाओं व अन्य सभी चुनाव से बाहर हो जाता है। जो व्यक्ति पुलिस की कानूनी हिरासत में होगा, वह मतदाता नहीं होगा। कानून अस्थायी रूप से उस व्यक्ति के कहीं भी जाने का अधिकार छीन लेता है। हाईकोर्ट ने आगे कहा, 'उस व्यक्ति का नाम मतदाता सूची से न हटा हो, फिर भी पुलिस की हिरासत में होने के दौरान उसकी मतदान की योग्यता और मत देने का विशेषाधिकार चला जाता है।' सुप्रीमकोर्ट ने हाई कोर्ट की इस व्यवस्था पर अपनी मुहर लगाते हुए कहा कि जिस व्यक्ति को जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 62(5) में मत देने का अधिकार नहीं है और जो मतदाता नहीं हो सकता वह लोकसभा व विधानसभा का चुनाव लड़ने की भी योग्यता नहीं रखता।

मैं व्यक्तिगत  रूप से इस फैसले से पूरी तरह सहमत हूं। मुझे लगता है कि राजनीति में सुचिता के लिए कुछ कड़े और ऐतिहासिक फैसले लेने ही होगें। मेरा ये भी मानना है कि हाईकोर्ट सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला सुनाया है, वो कानून के दायरे में ही रहकर सुनाया है। इसमें कहीं से भी ऐसा नहीं लगता कि कोर्ट ने लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन किया है। पर पूर्व जस्टिस मारकंडेय काटजू भला इस फैसले का स्वागत कैसे कर सकते हैं ? उन्हें लगता है कि उनके अलावा कोई दूसरा जज ऐतिहासिक फैसले करने का अधिकार ही नहीं रखता। अब इस फैसले में उन्हें लग रहा है कि कोर्ट ने लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन किया है। इन्होंने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर सवाल उठाया और कहाकि कोर्ट को किसी कानून में संशोधन का अधिकार नहीं है, ये काम विधायिका का है। काटजू साहब को संसद में बैठे अपराधियों से भी नाराजगी है और उन्हें रोकने के उपायों पर भी ऐतराज है। ये दोनों बातें एक साथ काटजू साहब ही कह सकते हैं।

मैं देखता हूं जो मुद्दा राष्ट्रीय स्तर पर मजबूती से खड़ा होता है और काटजू साहब को लगता है कि इस पर बोलने से वो मीडिया की सुर्खियों में आ सकते हैं तो वे मौका नहीं छोड़ते। अब देखिए उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना और केजरीवाल की लड़ाई को निरर्थक बता दिया। काटजू ने कहा, यह आंदोलन किसी मूर्ख आदमी द्वारा कही गई कहानी की तरह है, जिसका कोई मतलब नहीं निकलता। देश में कोई नैतिक संहिता नहीं है, इसलिए भ्रष्टाचार को पूरी तरह मिटाया ही नहीं जा सकता। वो यहीं नहीं रुके, आगे कहाकि जनलोकपाल हो या लोकपाल विधेयक, यह किसी भी हाल में जनहित में नहीं है। यह महज ब्लैकमेलर बनकर ही रह जायेगा। आंदोलन को लेकर उनकी राय है कि आप 'भारत माता की जय' और 'इंकलाब जिंदाबाद' चिल्लाकर भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष नहीं कर सकते। चिल्लाने से क्या होगा। लोग यहां 10-15 दिनों तक चिल्लाते रहे और फिर अपने घर चले गए। सवाल उठा रहे हैं कि आखिर इससे क्या हुआ ?  अब काटजू साहब को कैसे बताया जाए कि कुछ भी हो आज भ्रष्टाचार के खिलाफ देश में जागरूकता आई है। इस विषय पर कम से कम बहस तो शुरू हो गई है। खैर काटजू साहब को कोई नहीं समझा सकता।

अच्छा जब काटजू साहब सुप्रीम कोर्ट के जज थे, तब उन्हें इस बात की जानकारी नहीं हुई कि भारत की जेलों में तमाम ऐसे कैदी है, जिनके खिलाफ पुलिस ने गलत साक्ष्य दिए हैं। ऐसे ही बड़ी संख्या में लोग कई साल से जेलों में कैद हैं। उस समय काटजू साहब ने इस पर काम क्यों नहीं किया ? वो चाहते तो जज रहने के दौरान कुछ कड़े फैसले ले सकते थे। हो सकता है कि कुछ एनजीओ ठीक ठाक काम कर रहे हों, पर मैं तो इसे एक "धंधा" ही समझता हूं। अब काटजू साहब भी ऐसे ही लोगों को न्याय दिलाने के नाम पर एक एनजीओ " द कोर्ट आँफ लास्ट रिसोर्ट " बनाने की तैयारी कर रहे हैं। कीजिए काम और उद्देश्य तो वाकई बढिया है, लेकिन आपका टेंपरामेंट जो है, उससे ये संगठन कहां तक जाएगा, कहना मुश्किल है। वैसे भी आप जिस लाइन पर चल रहे हैं, उसे देखते हुए तो मैं कह सकता हूं कि एनजीओ के बजाए आप एक राजनीतिक दल बना लीजिए, कामयाब रहेंगे। या फिर थोड़ा इंतजार कीजिए, जिस रास्ते पर आप चल रहे हैं मुझे भरोसा है कि कांग्रेस आपको राज्यसभा आफर कर सकती है।






/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

रविवार, 14 जुलाई 2013

To LoVe 2015: अलविदा Born Villain ..पर कब मरेंगे Real Villain?


पिछला सप्ताह देखा जाए तो बड़ा हंगामेखेज रहा....एक तरफ सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे निर्णय सुनाए जिससे लोगो की बांछें खिल गई....लोकतंत्र में बुरे आदमी को दूर रखने के प्रयास में हम एक कदम आगे बढ़ गए हैं...लेकिन ये सप्ताह जाते-जाते देश के सबसे प्यारे ‘’खलनायक’’ को अपने साथ ले गया....जी हां प्राण। एक ऐसे इंसान जिन्होंने परदे पर इतने बुरे काम किये कि नाम  पड़ गया Born Villain. मगर फिल्मी रोल के एकदम उलट निजी ज़िंदगी में प्राण साहब की शराफत एक मिसाल थी....उन्होंने  परदे पर ओढ़े हुए चरित्र इतने जानदार तरीके से निभाए कि लगता था कि अब इससे बुरा कोई नहीं हो सकता....मगर हकीकत की कड़वी जमीन पर यानि हमारे समाज में इसके ठीक उलट होता है। हमारे आसपास कई समाज और राजनीति में कई ऐसे लोग मिल जाएंगे जो निजी जीवन में होंगे मक्कार...कमीने...दिल के पूरे काले...पर सफेद झकाझक कुर्ता पहन कर शराफत कि ऐसी बेमिसाल एक्टिंग करगें की पूछिए मत....यानि फिल्मी प्राण राजनीति में हम हर जगह देख सकते हैं..परंतु निजी जीवन में दिल के शरीफ प्राण साहब की तरह के लोग राजनीति में आसानी से नहीं मिलते...या फिर शरीफ नेताओं को काफी पीछे धकेला जा चुका हैं।
   काश प्राण साहब कुछ साल औऱ जिंदा रहते...या अपनी आखिरी सांस तक फिल्मों में अभिनय करते रहते...भगवान ने सबसे शरीफ बुरे हीरो को कई दिनों तक बिस्तर पर बीमार रखकर उनके फैन को काफी कष्ट दिया है। वो फैन..जो पहले ही छोटी सोच...वोटो के लिए कुछ भी करने वाले नेताओं...और शराफत के लबादे में छुपे भेड़ियों को सक्रिय देख-देख कर कूढ़ रहा है..उसे दोहरी सजा जाने क्यों मिल रही है। जाने कब तक हम ऐसी दोहरी सजा झेलते रहेंगे?   ये भगवान ही जानते हैं। 
    फिलहाल कोर्ट अपना काम करती रहती है..पर सवाल है कि हम कब अपना काम करेंगे? पर्दे पर प्राण साहब को जाने कितनी बद्दुआ औऱ लानतें भेजते थे हम....शायद इसी का असर था कि Born Villain पर्दे पर बदलता चला गया...मंगल चाचा....शेरखान जाने जैसे अनेक दिल के करीब किरदार निभाने लगे थे प्राण साहब..वो भी उसी शिद्दत से जैसे लगे कि अब इससे अच्छा कोई इंसान हो नहीं सकता। अपनी पूरी इमेज को ही बदल डाला था उन्होंने.....। ये बद्दुआ रुपी दुआओं का असर था.....जो पर्दे का विलेन दोस्ती के गीत गाने लगा। 
    मगर असली जिंदगी में सबकुछ उल्टा-पुल्टा होता रहता है...या फिर शायद हमारी बद्ददुओं में दम ही नहीं होता...या फिर हम दिल से बद्दुआ नहीं करते..जिस कारण घटिया और सफेद कुर्ते में मौजूद शराफत का मुखौटा ओढ़े नेताओं से हमें निजात नहीं मिल पा रही है....या असल जिदंगी में हमारे सामूहिक कर्म ऐसे नहीं होते कि हम इन लोगो को उठाकर कचरे के डिब्बे में डाल सकें....या शायद कचरे का डिब्बा भी और ज्यादा कचरा ढोना न चाहता हो....इसमें जाने क्या सच है.....पर ये सच है कि प्राण साहब नहीं रहे।
   
फिल्मी दुनिया का सबसे उंचा सम्मान दादा फाल्के लेने के बाद रवानगी का समय तय कर लिया था...वैसे कई लोग कहते हैं कि दादा साहब फाल्के सम्मान लेने के बाद अधिकतर कलाकार फानी दुनिया से रुखसत हो जाते हैं...पर मुझे लगता है कि शायद दादा फाल्के पुरुस्कार कालाकारों को तभी मिलता है जब वो दुनिया को अलविदा कहने वाले होते हैं। जाने क्या-क्या सच है।  पर इतना सच है कि प्राण साहब ने अलिवदा कह दिया है। फिल्मी दुनिया में हमेशा दिलीप कुमार, अमिताभ बच्चन जैसे दिग्गजों से भी ज्यादा पैसा लेने वाले प्राण साहब कि खाली जगह कोई नहीं भर सकता...पर दुर्भाग्य देखिए देश की जनता का....कि एक मक्कार नेता के मरने से पहले ही उसकी जगह लेने के लिए कई मक्कार....नेता का चोला पहन कर अच्छे नेता की एक्टिंग करने लगते हैं।
   खैर एक जिंदादिल ज़़िंदगी जीने और हजारों दिलों में जगह बनाने के बाद प्राण साहब दूसरी दुनिया के सफर पर निकल चुके हैं। वैसे कहते हैं कि इस सफर पर इंसान हमेशा अकेला ही जाता है...पर प्राण साहब के साथ तो करोड़ों दुआएं सफर कर रही हैं....तो करोड़ों दुआ के साथ सफर पर निकले हमारे प्यारे खलनायक को अलविदा..।  

/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

रविवार, 7 जुलाई 2013

To LoVe 2015: झारखंड : समझौते की आड़ में नंगा नाच !

मुझे तो याद है, पता नहीं आपको याद है या नहीं। महीने भर पहले छत्तीसगढ़ में कांग्रेस परिवर्तन यात्रा निकाल रही थी, इस यात्रा पर नक्सलियों ने हमला कर दिया, जिसमें कुछ सुरक्षा जवानों के साथ कुल 28 लोगों की मौत हो गई। इस हमले में कांग्रेस के कई नेता भी मारे गए। बीजेपी की सरकार वाले राज्य में नक्सली हमले में कांग्रेसियों की मौत से पार्टी आलाकमान में हड़कंप मच गया। पार्टी में इतनी बैचेनी कि राहुल बाबा बेचारे रात में ही वहां पहुंच गए, जबकि अगले दिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी भी रायपुर जाकर घड़ियाली आंसू बहा आए। लेकिन इन नेताओं का असली चेहरा तब सामने आया, जब हफ्ते भर पहले झारखंड में नक्सली हमले में वहां के एसपी समेत कई और पुलिसकर्मी मारे गए। यहां आठ लोगों को जंगल में घेर कर नक्सलियों ने मार गिराया, लेकिन इस बार किसी भी कांग्रेसी के मुंह से संवेदना के दो शब्द नहीं निकले। बेशर्मी की हद तो ये हैं कि जिस वक्त  पुलिस महकमा नक्सलिओं को मुंहतोड़ जवाब देने की रणनीति बना रहा था, उस दौरान कांग्रेसी झारखंड मुक्ति मोर्चा के दागी नेताओं के साथ मिलकर चोर दरवाजे से समझौते की आड़ में सौदेबाजी कर सरकार बनाने गुत्थी सुलझा रहे थे। मैं जानना चाहता हूं कि क्या आज नेताओं में दो एक पैसे की भी शर्म नहीं बची है ?

ऐसा नहीं है कि कांग्रेस के इस शर्मनाक खेल को आम जनता नहीं समझती है। उन्हें जान लेना चाहिए कि ये पब्लिक है, सब जानती है। वैसे मैं बहुत कोशिश करता हूं, पर इस बात का जवाब मुझे नहीं मिल पार रहा है। सवाल ये कि क्या वाकई सोनिया गांधी में राजनीतिक विवेक शून्यता है ? या वो जानबूझ कर ऐसी मूर्खता करती हैं। आप सब देख रहे हैं कि झारखंड में एक ओर नक्सलियों के खिलाफ सख्त पुलिस कार्रवाई चल रही है, बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों ने जंगल में नक्सलियों की घेराबंदी कर ली है। नक्सलियों को जिस रास्ते से खाद्य सामग्री पहुंचती है, उन रास्तों पर पुलिस का सख्त पहरा है। वहां राज्यपाल और उनके सलाहकार इस मिशन को अंजाम देने में लगे हुए हैं। लेकिन इन सबसे बेखबर सोनिया गांधी अपने मूर्ख सलाहकारों के साथ मिलकर झारखंड के विवादित और दागी नेताओं के साथ कुर्सी की गंदी राजनीति में फंसी रहीं। अब जाहिर है जब झारखंड में सरकार की बहाली को लेकर दिल्ली में सौदेबाजी चल रही हो, तो चाहे राज्यपाल हों या फिर उनके सलाहकार कोई भी उतनी शिद्दत से तो आपरेशन को अंजाम नहीं दे सकता।

आप सब जानते हैं कि दूध का जला छाछ भी फूंक फूंक कर पीता है। वैसे तो सच यही है कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के अगुवा शिबु सोरेन कोई साफ सुथरे नेता तो नहीं है, फिर भी कांग्रेस ने दिल्ली में उनकी जो दुर्गति की वो भी किसी से छिपी नहीं है। बेचारे बड़े बेआबरू होकर दिल्ली से झारखंड वापस गए हैं, यही वजह है कि अब दोबारा कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार गठन के मामले में खुद बातचीत बिल्कुल नहीं कर रहे हैं। रही बात उनके बेटे हेमंत सोरेन की तो वो पूरी तरह दिमाग से पैदल ही है। वरना जितना गिर कर उसने कांग्रेस के साथ समझौता किया है, कोई भी मान सम्मान वाला राजनीतिक व्यक्ति ऐसा समझौता नहीं कर सकता। हफ्ते भर तक जिस तरह हेमंत दिल्ली में कांग्रेस नेताओं के दरवाजे पर मत्था टेकता रहा, उसे देखकर एक बार भी नहीं लगा कि वो एक राज्य के मुख्यमंत्री बनने की बातचीत कर रहा है, बल्कि ऐसा लगा कि वो झारखंड के किसी पंचायत में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की नौकरी मांग रहा है। कांग्रेस ने भी जिस तरह हेमंत का गला मरोड़ कर समझौता किया, उसके दर्द का अहसास तो हेमंत को है, लेकिन मुख्यमंत्री बनने की चाहत ने इस दर्द और बेइज्जत के अहसास को कम कर दिया है।

राजनीति में समझौते होते रहते हैं, लेकिन मेरी आपत्ति समझौते की आड़ में हो रही सौदेबाजी और उसके समय को लेकर है। कांग्रेस ये सौदेबाजी उस वक्त कर रही थी जब झारखंड में राज्य पुलिस के एक एसएसपी समेत आठ लोगों की नक्सलियों ने हत्या कर दी थी। समूजा राज्य इस शोक में डूबा था, उस वक्त राज्य और वहां की पुलिस को जरूरत थी सहानिभूति की, लेकिन कांग्रेस सहानिभूति के बजाए सौदेबाजी की मेज पर अपने पासे पलटनें में मशगूल रही। बेशर्म कांग्रेसियों ने अपने आलाकमान को भी पुलिसकर्मियों की हत्या के असर से बेखबर रखा। अच्छा एक बार मैं मान लेता हूं कि कांग्रेस नेताओं में संवेदनशीलता की कमी हैं, लेकिन झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता हेमंत सोरेन को क्या कहें ? उनके दिमाग में ये बात क्यों नहीं आई कि सरकार बनाने के लिए सौदेबाजी का ये मौका सही नहीं है। अब क्या कहूं, कहते हैं कि कुर्सी आदमी को अंधा बना देती है। अगर मैं ये कहूं कि कुर्सी के लिए हेमत भी अंधा हो गया था तो बिल्कुल गलत नहीं होगा। वजह जानना चाहेंगे, चलिए बताता हूं। जिस तरह का समझौता हुआ है उससे तो हेमंत बस मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठा रहेगा, उसे कोई फैसला करने का अधिकार नहीं होगा। इसके लिए एक समन्वय समिति बनेगी और जो गुणदोष के आधार पर फैसला करेगी। इतना ही नहीं कांग्रेस कुछ वरिष्ठ नेताओं की एक कमेंटी बनाने वाली है जो सरकार के कामकाज पर निगरानी भी रखेगी। मसलन सोरेन को लूट खसोट की छूट नहीं होगी।

और हां संभावित सरकार में हेमंत मुख्यमंत्री तो होंगे, लेकिन महत्वपूर्ण विभाग कांग्रेस खेमे के मंत्रियों के पास होगा। इतना ही नहीं विधानसभा का अध्यक्ष भी कांग्रेस का ही कोई नेता होगा, मतलब ये कि कांग्रेस ने हेमंत का हाथ पैर बांधकर उसे कुर्सी पर बैठाने का फैसला लिया है, वो कुर्सी पर बैठकर अपनी मर्जी से हिल डुल भी नहीं सकेगा। इसके लिए भी उसे कांग्रेस की मदद की जरूरत होगी। कांग्रेस जानती है कि झारखंड में कुछेक नेताओं को छोड़ दें तो ज्यादातर नेताओं का चरित्र मधुकोड़ा से प्रभावित है। मतलब सियासी जमीन भले ही मजबूत ना हो लेकिन जमीर बेचने में वक्त नहीं लगता। यही वजह है कि इस राज्य के गठन को महज 13 साल हुए हैं, लेकिन जोड़तोड़ ऐसा कि अब तक यहां 8 मुख्यमंत्री बदल चुके हैं और इस राज्य को तीन पर राष्ट्रपति शासन का मुंह देखना पड़ा है। चूंकि अगले साल लोकसभा के चुनाव प्रस्तावित हैं, ऐसे में कांग्रेस कोई जोखिम नहीं लेना चाहती। यही वजह है कि हेमंत सोरेन की मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षा देख कांग्रेस ने उसे लोहे की जंजीर में ना सिर्फ जकड़ दिया है, बल्कि ये कहूं कि हेमंत देश के पहले बंधक मुख्यमंत्री रहेंगे तो गलत नहीं होगा।

अच्छा सरकार में महत्वपूर्ण विभाग तो कांग्रेस के पास रहेगा ही, अगले साल होने वाले चुनाव के लिए भी कांग्रेस ने झारखंड मुक्ति मोर्चा की पूरी तरह से घेराबंदी कर दी है। राज्य के 14 लोकसभा सीटों में 10 पर कांग्रेस चुनाव लडेगी और मोर्चा सिर्फ चार सीटों पर चुनाव लडेगा। इस सौदेबाजी से कांग्रेस ने एक संदेश आरजेडी प्रमुख लालू को भी दे दिया है। झारखंड में उनके लिए कोई सीट नहीं छोड़ी गई है, मसलन लालू को यहां अकेले चुनाव लड़ना होगा। हां अगर झारखंड मुक्ति मोर्चा चाहे तो अपनी चार सीटों में दो लालू को दे सकती है। बहरहाल हेमंत को मुख्यमंत्री बनाने की जो कीमत कांग्रेस ने वसूल की है, सच कहूं तो वो राजनीतिक मर्यादाओं के भी खिलाफ है। वैसे घुटनों पर आ गई झारखंड मुक्ति मोर्चा के लिए अभी भी सरकार बनाने का रास्ता इतना आसान नहीं है। मौजूदा 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में भाजपा के 18, झाविमो के 11, ऑजसू के 06, जदयू के 02 और वाम दल के 02 विधायक है। जबकि झामुमो के 18, कांग्रेस के 13, राजद के 05  विधायक हैं। जबकि दो निर्दलीय विधायक चमरा लिंडा और बंधु तिर्की का झुकाव भी झामुमो और कांग्रेस गठबंधन की ओर है। लेकिन कांग्रेस ने हेमंत को ये भी साफ कर दिया है कि किसी भी निर्दलीय को मंत्री ना बनाया जाए, अब बिना मंत्री बने तो मुझे नहीं लगता है कि निर्दलीय सरकार का समर्थन करेंगे।

खैर सोमवार से सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। हो सकता है कि कल यानि सोमवार को हेमंत की राज्यपाल से मुलाकात हो, जिसमें वो उनसे सरकार बनाने का प्रस्ताव कर सकते हैं। वैसे देखने में तो ऐसा ही लग रहा है कि अब सरकार बनने में कोई अड़चन नहीं है, लेकिन झारखंड मुक्ति मोर्चा के सामने इस बार बीजेपी नहीं कांग्रेस है। यहां तो बड़े नेताओं से मुलाकात करने भर में ही पसीने छूट जाते हैं। कांग्रेस और मोर्चा की अभी जितनी भी बातें हुई हैं वो सब मौखिक हैं। अभी कांग्रेस विधायकों की बैठक होनी है, जिसमें पार्टी के विधायक फैसला करेंगे कि हेमंत को समर्थन देना है। समर्थन का पत्र मिलने के बाद  ही सोरेन राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। बहरहाल राजनीतिक अस्थिरता को लेकर ये राज्य पहले भी सुर्खियों में रहा है, इस बार तो बहुत ही कमजोर सरकार है, इसका फायदा कांग्रेस जरूर उठाएगी। समझौते की आड़ में जिस तरह राजनीति का नंगा नाच हुआ वो एक बार भी गठबंधन के तौर तरीकों पर सवाल खड़े करने वाला है।  बहरहाल सोदेबाजी की सरकार के कामकाज के तौर तरीके जल्दी ही हम सबके सामने होंगे।





/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

शनिवार, 6 जुलाई 2013

To LoVe 2015: सफलता की कुंजी !!!!


अक्सर...अक्सर....पेशे से इमानदारी निभाना...सालों तक कहीं नहीं पहुंचना होता है....हर साल सैलरी में चंद रुपये बैंक के सधारण ब्याज की तरह जुड़ते रहेंगे...पर बढ़ती मंहगाई तुम्हें ये एहसास नहीं होने देगी की तुम्हारी तनख्वाह बढ़ गई है....शुरुआती दौर में तुम्हारे जोश औऱ सच्चाई की लोग तारीफ करते रहेंगे.....मगर कुछ साल बाद उन्हीं लोगो की नजर में तुम भाषण देने वाले होगे...तुम्हारी पीठ पीछे वही लोग तुम्हें असफलता के लिए दूसरों को दोष देने वाला शख्स कहेंगे....इसलिए मुंह पर कभी सच मत बोलो.....बोलो तो अप्रिय मत बोलो....आंधी में खड़े न रहकर बांस का झुरमुट बन जाओ...जो आंधी के समय झुक जाता है....यानि चुपचाप सब होते देखते रहो...गीता में जो भी कहा गया है वो अक्षरश: उतारने के लिए बड़ा कलेजा चाहिए....अन्याय देखते रहो औऱ बड़े अपराधी बन जाओ....अगर नहीं तो मैदान छोड़ना पड़ेगा....मैदान में खड़े रहे तो देखोगे लोग तुम्हारे इधर-उधर से निकल कर आगे बढ़ गए...तुम वहीं रह गए....सालो बाद तुम सोचोगे कि तुमने लोगो को पहचाने में सच में गलती की? फिर  ऐसा वक्त आएगा जब तुम अकेले खड़े रह जाओगे...तुम्हारे दोस्त भी तुम्हे झक्की समझने लगेंगे....तुमसे कन्नी काट लेंगे....इसलिए दोस्ती में भी सच न बोलो...ये ऐसा समय होगा जब तुम्हारे मन में कुछ भी न हो....फिर भी कोई तुम्हें गलत समझेगा...तुम गुस्से में कुछ दिन चुप रहोगे....फिर तुम्हें पता चलेगा जिनसे तुम नाराज थे..उन्हें तुम्हारी परवाह नहीं....इस वक्त तुम महसूस करोगे कि तुम महज उन अनेक लोगो में हो जिनकी कोई अहमयित नहीं....फिर तुम तन्हाई में अकेले खड़े रह जाओगे...ऐसी मरघट की शांति अंदर छा जाएगी जिससे पीछा नहीं छुड़ा पाओगे...अपने दुख को अपने ही कंधे पर सिर रखकर सहना होगा....इससे पहले की अपने सपनों की लाश अपने कंधे पर ढोने की नौबत आए....बदल जाओ....बेहतर है कि कुछ सबक सीखो...व्यवहारिक बनो...जितना करो..उससे कहीं ज्यादा दिखावा करो...जितना दिखावा करो उससे कहीं ज्यादा हल्ला करो...यानि अपनी मार्किटिंग खुद जमकर करो....यही सफलता की कूंजी है....और इसके  बाद भौतिक जगत में.....You Become Successful
/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <