बुधवार, 30 नवंबर 2011

To LoVe 2015: climate change conference 2011 at Durban ,South Africa

 The 17th United Nations Framework Convention Conference  on the issue of Climate Change is started in Durban, South Africa, with 15,000 delegates from over 190 countries at the negotiating table.

Thirteen of the warmest years recorded have occurred within the last decade and a half, the UN's World Meteorological Organisation said on Tuesday Nov 30 ,2011 in Durban. The 2011 United Nations Climate Change Conference(UNCCC)  held in Durban, South Africa.
Starts from 28 November and ends on 9 December 2011.


Some Detail about Durban :
  •  Durban is a city of over three million people - a city where east meets west - a city beneath which beats the pulse of Africa - city known as the home of Africa's best managed, busiest port.
  • Durban city in which remember to play, shop, experience the nightlife and to relax.
  • A beautiful city place in which business and debate issues, which have far-reaching effects, not only on Africa but way beyond its borders, are discussed always.


It is said that: The 2002-2011 period equals 2001-2010 as the warmest
decade since 1850.


WMO Secretary-General Michel Jarraud said in a statement:

WMO is U.N.’s World Meteorological Organization

  • that Concentrations of greenhouse gases in the atmosphere reached new highs and very rapidly approaching new levels with a 2 to 2.4 Celsius rise in average global temperatures."
  •  Scientists believe that any rise above the 2.0 threshold could trigger far-reaching and irreversible changes on Earth over land and in the seas.
  • 2011 ranks as the 10th warmest year since 1850, when accurate measurements began.
  •  This was true despite a La Nina event – one of the strongest in 60 years – that developed in the tropical Pacific in the second half of 2010 and continued until May 2011.
  • It also aggravated means more troublesome , flooding in southern Africa, Australia and southern Asia.While La Nina, and its meteorological cousin El Nino, are not caused by climate change, rising ocean temperatures caused by global warming may affect their intensity and frequency, scientists said in the Durban event.

  • In Russia from January to October temperatures were about 4.0 Celsius (7.2 Fahrenheit) above average in places. and 
    • Finland  hit from its hottest summer in 200 years.

Must Read: Rich Nations Refuse To Sign Kyoto Protocol:


What is Kyoto Protocol:

  •  The Kyoto Protocol is a protocol to the United Nations Framework Convention on Climate Change (UNFCCC or FCCC), aimed at fighting global warming. 



Some important remember Points about  "Durban Climate  Event"



 What is climate change?
  • It is a change in the statistical distribution of weather over periods of time that range from decades to millions of years.Mainly caused by the rising emissions of carbon dioxide (CO2) and other greenhouse gases into the atmosphere. Temperature on Earth is rising due to global warming, and it is rising at a speed for which a majority of scientists are blaming human actions.


What is Durban Climate Summit?
  • Many more representatives including government leaders, diplomats, officials, international organizations and civil society are gathering in Durban, South Africa to participate in a United Nations meeting to chalk out a new international treaty to tackle climate change. The delegates will seek to move forward the implementation of the Convention and the Kyoto Protocol with the Bali Action Plan agreed at COP 13 in 2007 and the Cancun Agreements reached at COP 16 in 2010 to fight global warming.


Why is the Summit taking place?

  • The majority of the scientific community, notably the Intergovernmental Panel on Climate Change (IPCC), too believes the humans are severely damaging the nature and environment.
  • If nothing is done to stem it the damage will be become irreversible. Rising temperatures and sea levels are already indicating towards this. Unprecedented loss of forests adds to the greenhouse-gas problem.




Why the world needs an agreement?
The Kyoto Protocol was agreed upon in 1997. However, so far none of the agreements have managed to bring about a significant reduction in greenhouse gas emissions to help fight climate change and its effects projected by the IPCC. 
The targets set under the Kyoto Protocol apply only to a few countries and the treaty runs out in 2012. So, after the failure of talks in Copenhagen in 2009 and Cancun Agreement in 2010, diplomats and non-governmental organizations will seek to reach a new international climate agreement on reducing greenhouse gas emissions in Durban Summit as the Kyoto Protocol expires next year.


Who are the key players?

  • Various representatives will try to win agreement on strong emission curbs from big polluting countries. Canada, Japan and Russia have said they don't want to extend Kyoto Protocol unless it's extended to bring in US and China. They are of the view not to renew their pledges after the first round of commitment period expires at 2012 as the world's leading polluters stay outside these restrictions.

  • China wants developed countries under the protocol to clarify the amount for emission cuts at the Durban Summit and expects others not covered by the accord to pledge the same target. Poorer nations want the Kyoto Protocol to be extended.

  • In US, the environmental issue is a serious political front line between Republicans and President Barack Obama's Democrat party. The EU, responsible for 11% of global carbon emissions said it is willing to sign up for a second commitment phase with a condition that major emitters are intended to join it.


"
Click to know actual:  source  source1
/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

To LoVe 2015: Sony Xperia mini x10 best Android Smart Phone with good sound and Camera Quality

New Smartphone by Sony called World´s smallest Android™ powered HD video smartphone.
  • Reality Display with Mobile BRAVIA® Engine
  • Place up to 16 apps in the corners of your home screen
  • Facebook inside Xperia. Keeping your friends closer


 

Features:

Android smartphone. Have it your way for you check all its features:

Going out? Just chilling out? Choose from more than 200.000 apps on Android Market™. Download them straight to your X10 mini Android smartphone. Get entertained with the latest YouTube™ clips or stay in touch with instant email and your favourite social networks. The Google™ browser and 3G give you high speed web access. Navigate your way with Google Maps™. And enjoy quick, one-touch access to your Music Player - and all the fun you could ask for.

Screen

- 240 x 320 pixels (QVGA)
- 2,55" capacitive touchscreen

Memory

- MicroSD™ support (up to 16 GB)
- Phone memory up to 128MB
* Actual free memory may vary due to phone pre-configuration.

Networks

- GSM/GPRS/EDGE 850/900/1800/1900
- UMTS/HSPA 900/2100
- UMTS/HSPA 850/1900/2100

Available colours

- Passion - Black - Pearl White - Lime - Red - Pink - Silver - Gold - Light Pink - Light Silver - Azur - Orange - Doodle Possible limited market availability.

Sizes

- 83.0 x 50.0 x 16.0 mm
- 3.3 x 2.0 x 0.6 inches

Weight

- 88.0 gr
- 3.1 oz
Please note that local variations may apply.

Camera

  • Flash / light type - Photo flash
  • Camera - 5 megapixel
  • Auto focus
  • Geo tagging
  • Video light

Entertainment

  • Radio - FM radio with RDS
  • 3D games
  • Video streaming
  • YouTube™  
Communication
  • Google Talk™
  • Twitter™ - Timescape™ integration
  • Facebook™ application
  • Sony Ericsson Timescape™
  • Speakerphone
  • Vibrating Alert

Music

  • TrackID™ music recognition
  • Sony Ericsson Music player
  • Music tones - MP3, AAC
  • Album art
  • PlayNow™
  • Bluetooth™ stereo (A2DP)

Connectivity

  • ANT+ technology
  • Google Maps™ - with Street View
  • Google Latitude™
  • Synchronisation via Facebook™
  • Synchronisation via Google Sync
  • Synchronisation - Exchange ActiveSync® via RoadSync client
  • Micro USB support
  • NeoReader® barcode scanner
  • 3.5 mm audio jack
  • Bluetooth™ technology
  • aGPS
  • USB support
  • USB mass storage
  • WiFi™
  • Wisepilot™ turn-by-turn navigation

Design

  • Four corner home screen - customizable icons
  • Auto rotate
  • Picture wallpaper
  • Touchscreen

Web

  • Google Voice Search
  • Android™ Market
  • Pan & zoom
  • Google™ search
  • Web browser - WebKit
  • Bookmarks

Messaging

  • Google Mail™
  • Conversations
  • Email
  • Instant messaging
  • Predictive text input
  • Text messaging (SMS)
  • Picture messaging (MMS)

Organiser

  • Google Calendar™
  • Android™ platform
  • Alarm clock
  • Calendar
  • Calculator
  • Flight mode
  • Notes
  • Phone book
  • Stopwatch
  • Tasks
  • Timer
  • Infinite button
Prize: £169.99*  or 

Performance

Networks

  • GSM/GPRS/EDGE 850/900/1800/1900
  • UMTS/HSPA 900/2100
  • UMTS/HSPA 850/1900/2100

Talk time (up to)

  • 4 hours
  • 3 hours 30 min
  • 3 hours 30 min

Standby time (up to) Video call (up to)

  • 285 hours
  • 360 hours
  • 360 hours


Battery performance may vary depending on network conditions and configuration, and phone usage. 
/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

मंगलवार, 29 नवंबर 2011

To LoVe 2015: ईमानदारी की बात में भी ईमानदारी नहीं...

अब टीम  अन्ना ईमानदारी की नई परिभाषा गढ़ रही है । लोकपाल में एनजीओ को शामिल किए जाने से ना जाने क्यों उनकी परेशानी बढ़ गई है । लोकपाल में और किसे किसे शामिल किया जाए, इससे ज्यादा जोर टीम  अन्ना का इस पर है कि कैसे एनजीओ को इससे  बाहर किया जाए । अब आंदोलन की हकीकत इसी बात से सामने आती है । मेरा मानना है कि आप ये मांग तो कर सकते हैं कि लोकपाल के दायरे में प्रधानमंत्री, जजों को भी शामिल किया जाना चाहिए, लेकिन आप ये मांग भला कैसे कर सकते हैं कि एनजीओ को इसके दायरे में नहीं लाया जाना चाहिए ।
मेरी समझ में तो नहीं आ रहा है, आप अगर समझ रहे हैं तो मुझे भी बताएं । इस मांग का मतलब तो यही है ना  कि " ए "  को चोरी करने की छूट होनी चाहिए, लेकिन   " बी " को चोरी करने का बिल्कुल हक नहीं होना चाहिए । एनजीओ को लोकपाल में लाने की खबर से टीम अन्ना की हवाइयां उड़ गईं । टीम के सबसे ईमानदार और मजबूत सहयोगी अरविंद केजरीवाल ने तो आनन फानन में  सरकार को रास्ता भी सुझा दिया, उनका कहना है कि चलो अगर एनजीओ को लोकपाल के दायरे में लाया ही जाना है तो सबको ना लाया जाए, सिर्फ उसे ही लाएं जो एनजीओ सरकारी पैसों की मदद लेते हैं । हाहाहाहहाहा हंसी आती इस ईमानदार सामाजिक कार्यकर्ता पर ।
अरे केजरीवाल साहब हम एनजीओ से तो ये उम्मीद करते हैं ना कि वो ईमानदारी से काम करते होंगे । फिर आपकी छटपटाहट की वजह क्या है ? अन्ना जी तो बेचारे हर जांच खुद अपने से शुरू करने की मांग करते हैं ।  वो कहते हैं कि सबसे पहले उनकी ही जांच हो , लेकिन आपको ऐसा करने में दिक्कत क्यों है । मैं दूसरे एनजीओ की चर्चा नहीं करुंगा,  पहले आपकी दूसरी सहयोगी किरन बेदी की बात कर लेते हैं । उनके एनजीओ को सरकार से पैसा मिला या नहीं, मै ये तो नहीं जानता , लेकिन पुलिस कर्मियों के बच्चों को कम्प्युटर और कम्प्युटर ट्रेनिंग के लिए माइक्रोसाप्ट कंपनी ने 50 लाख रुपये लिए गए । अब आरोप लग रहा है कि उन्होंने इस पैसे का दुरुपयोग किया । ये सरकारी पैसा भले ही ना हो, लेकिन सरकारी कर्मचारियों के बच्चों के नाम पर लिया गया पैसा था, अगर इसमें बेईमानी  हुई है तो शर्मनाक है और दोषी लोगों को सख्त सजा होनी ही चाहिए । आप  चाहते  हैं कि ऐसे लोगों  को हाथ  में तिरंगा लेकर ईमानदारी की बात करने की छूट होनी  चाहिए ।

आप खुद सोचें कि जो ईमानदारी की बडी बड़ी बातें कर रहे हैं, उनके दामन साफ नहीं है,  कोर्ट ने सुनवाई के बाद उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच करने के आदेश दिए हैं, तो फिर और एनजीओ का क्या हाल होगा । आखिर अरविंद केजरीवाल को  इससे दिक्कत  क्यों है ? वो किसे बचाना चाहते हैं ? मेरा अनुभव रहा है कि बहुत सारे सामाजिक संगठन विदेशों  से पैसे लेते हैं, मकसद होता है का गरीबों को मुफ्त इलाज, स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा,  गांव का विकास, बाल श्रम पर रोक, महिला सशक्तिकरण,  पर  क्या ईमानदारी से सामाजिक संगठन ये काम करते हैं, दावे के साथ कह सकता हूं.. नहीं । ऐसे में अगर इन्हें  लोकपाल के दायरे में लाने की बात हो रही है तो आखिर इसमे बुराई क्या है, क्यों केजरीवाल आग बबूला हैं  ?

मित्रों वैसे भी  एनजीओ पर शिकंजा कसना जरूरी  है,  क्योंकि यहां बडे पैमाने  पर धांधली हो रही है । मैं इस बात का जवाब टीम अन्ना  से चाहता हूं  कि तमाम लोग आयकर  में छूट पाने के लिए सामाजिक संगठनों को चंदा देते हैं और यहां से रसीद हासिल करके आयकर रिटर्न में उसे दर्ज करते हैं । जब आयकर में एनजीओ की रसीद महत्वपूर्ण अभिलेख है तो क्यों नहीं एनजीओ को लोकपाल  के दायरे में आना चाहिए । मैं देखता हूं कि कारपोरेट जगत ही नहीं बडे बडे नेताओं और फिल्म कलाकार अपने पूर्वजों के नाम पर सामाजिक संस्था बनाते हैं और पैसे को काला सफेद करते रहते हैं ।

यहां एक शर्मनाक वाकये की  भी चर्चा कर दूं । देश में बड़े बड़े साधु संत धर्मार्थ संगठन के नाम पर धोखाधड़ी  कर रहे हैं । साल भर पहले आईबीएन 7 के कैमरे पर कई बडे नामचीन साधु पकड़े गए थे, जो कालेधन को सफेद करने के लिए सौदेबाजी कर रहे थे । वो दस लाख रुपये लेकर 50 रुपये की रसीद दिया करते थे । धर्मार्थ संगठन गौशाला,  पौशाला, धर्मशाला, पाठशाला समेत कई अलग अलग काम के लिए सामाजिक संस्था बनाए हुए हैं । मेरा मानना है कि सामाजिक संस्थाओं  को सरकारी और गैरसरकारी जितनी मदद मिलती  है, अगर इसका ईमानदारी से उपयोग किया जाता तो आज देश  के गांव  गिरांव की सूरत बदल जाती । ये चोरी का एक आसान रास्ता  है, इसलिए पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी सेवा में रहते हुए एक  एनजीओ जरूर बना लेते हैं और सेवाकाल  के दौरान पद का दुरुपयोग करके इसे आगे बढाने में लगे रहते हैं, जिससे  सेवानिवृत्ति के बाद इसका स्वाद उन्हें मिलता रहे ।

अच्छा हास्यास्पद लगता है कि प्रधानमंत्री को लोकपाल  के दायरे में लाने की बात की जा रही है, जबकि देश में आज तक  कोई ऐसा प्रधानमंत्री नहीं  हुआ है, जिसके लूट खसोट से जनता परेशान हो गई हो । अब आज की केंद्र सरकार को ही ले लें, सब कहते हैं कि आजाद भारत की ये सबसे भ्रष्ट्र सरकार है, लेकिन प्रधानमंत्री को सभी  ईमानदार बताते हैं । इसलिए अगर  लोकपाल के दायरे में प्रधानमंत्री को  एक बार ना भी शामिल किया जाए तो कोई पहाड़ टूटने वाला नहीं है, लेकिन जब सामाजिक  संगठनों की करतूतें सामने आने लगी हैं तो कोई कारण नहीं जो इन्हें लोकपाल  से अलग रखा  जाए । टीम अन्ना  से बस इतना ही कहूंगा  कि जनता देख रही है, कम से कम ईमानदारी की बात तो ईमानदारी से करो ।  
/a>
FuLl MoViEs
MoViEs To mOvIeS
XXX +24 <

To LoVe 2015: Why this Kolaveri de!!!! see HD video in multiple format.

  • Tamil actor-singer Dhanus he never thought about his song 'Kolaveri di', which has become popular online.
  •  Kolaveri di  meaning eager passion or a killer wind or  a killer song or Violent excitement.

Some Interesting facts:
  • You know it attracting fans like Amitabh Bachchan.
  • The Tanglish (Tamil and English) song, a funny take on a heartbreak, is from the Dhanush's upcoming Tamil movie '3'.
Download link:





    Lyrics of song the Kolaveri di in Telugu to English:

    Track List:

    • Singers:  Dhanush 

    • Movie name: 3

    Lyrics of kolaveri Song:


    Hello Boys.. I am Singing Song..
    Soup Song.. Flop Song..

    why this kolaveri kolaveri kolaveri de (3)
    why this kolaveri..de

    Distance la moonu moonu
    moonu  coloru  whiteu
    white background nightu nightu
    nightu coloru blacku

    why this kolaveri kolaveri kolaveri de (2)

    White skin girl-u girl-u
    girl-u heart-u black-u
    Eyes eyes meet-u meet-u
    my future darku
    why this kolaveri kolaveri kolaveri de (2)

    Maama, notes eduthuko
    apdiye kaila snacks eduthuko

    Super maama ready, ready 1 2 3 4
    what a change over maama

    Ok maama now tune change-u

    Hmmmm ,
    kaila glass, only english..
    Hand la glass, glass la scotch
    eyes fulla tear-u

    Empty life, girl come
    life reverse gear-u
    Love love , oh my love
    You show to me pow-vu
    Cow cow kozhi cow
    I want u here now
    God i am dying now
    she is happy how-u ?

    This song pass to boys
    we dont have choice-u
    why this kolaveri kolaveri kolaveri de (4)

    "
    Hope you Enjoyed :)

    /a>
    FuLl MoViEs
    MoViEs To mOvIeS
    XXX +24 <

    सोमवार, 28 नवंबर 2011

    To LoVe 2015: India v West Indies, 1st ODI, 29 Nov,2011

    "
    India v West Indies, 1st ODI 

    India vs West Indies  ODI in Cuttack,Orissa
    • Dhoni, Tendulkar and Yuvraj are rested this series, so Sehwag will be lead the Team. The West Indies will be looking for revenge after a fine end to the test campaign. They will be confident they have what it takes to beat the Indians on their own patch.
    • Hello and welcome to Cuttack for the first of five ODI's between India and the West Indies. India won the test series 2-0, but both teams will be high in confidence after the thrilling end to the third test in Mumbai.
    Lets see whats happens in the Next day.... After Day end 


    Teams

    West Indies (Playing XI)

    • Lendl Simmons, Adrian Barath, Danza Hyatt, Darren Bravo, Marlon Samuels, Kieron Pollard, Denesh Ramdin(w), Darren Sammy(c), Andre Russell, Anthony Martin, Kemar Roach

    India (Playing XI)

    • Virender Sehwag(c), Parthiv Patel(w), Gautam Gambhir, Virat Kohli, Rohit Sharma, Suresh Raina, Ravindra Jadeja, Ravichandran Ashwin, Vinay Kumar, Varun Aaron, Umesh Yadav
     


     "


    Source: link
    *Not sure about external link

      /a>
      FuLl MoViEs
      MoViEs To mOvIeS
      XXX +24 <

      To LoVe 2015: BCCI 2010 -11 awards

      BCCI Awards 2010-11:

      • Madhavrao Scindia Award (Highest Scorer in the Ranji Trohy 2010-11): S Badrinath (922 runs at a rate of 131.71 in nine matches, inclusive of four centuries and three half centuries).
      •   MA Chidambaram Trophy (Best woman cricketer of 2010-11): Jhulan Goswami (21 wickets at an average of 7.62 in eight matches, inclusive of one 5WI).
      • Best Umpire in Domestic cricket 2010-11: S Ravi
      • Dilip Sardesai Award for India's Best Cricketer in the 2011 Test series in the West Indies: Ishant Sharma (22 wickets at an average of 16.8 from three Tests, inclusive of two 5WIs and one 10WM).

      • Best Overall Performance in 2010-11: Railways Sports Promotion Board and Delhi and District Cricket Association.


      Source: toi
      /a>
      FuLl MoViEs
      MoViEs To mOvIeS
      XXX +24 <

      To LoVe 2015: Rahul Dravid create history in test Cricket match

       Some Important Cricket NEWS update as per mostly asked in exams.so read carefully before sit into the examination.
       
      • Indian batsman Mr. Rahul Dravid  became the second player in the history of Test cricket to compile 13,000 runs.
      • Test match between West Indies and India in Delhi

      • This was his  160th match,also he smashed 36 centuries and 61 half-centuries so far

      • Playing in his 160th match, Dravid has smashed 36 centuries and 61 half-centuries till Nov 2011.

      • Also he complete 1000 runs for the calendar year 2011 too.

      • Now who is the First player:

        • It is Mr. Sachin Tendulkar achieve the 13,000-run feat and is currently the leads to got 15,000 runs under his history 

      • Till 2011 Only 8 eight batsmen  recorded more than  10,000 runs in Test cricket and three of them are Indians.

      Years in which Dravid had made 1000 Test Runs:

      YearMatchesInningsNot OutsRunsHighestAverage100s50s0s
      200216263135721759.00550
      200612224109514660.83370
      2011112031034146* 60.82530






      Rahul Dravid is India's best cricketer of 2010-11 by BCCI:

      • Veteran(Experienced) batsman Rahul Dravid awarded with 'Polly Umrigar Award for India's best cricketer of 2010-11' season during the BCCI's annual awards ceremony to be held on December 10 in Chennai.
      • The 38-year-old Dravid, who scored 1258 runs in 15 Tests at an average of 53 this season, pulled off six hundreds during the year.
       Also:
      • The Col. C K Nayudu Lifetime Achievement award will be bestowed on former captain and coach Ajit Wadekar.

      /a>
      FuLl MoViEs
      MoViEs To mOvIeS
      XXX +24 <

      रविवार, 27 नवंबर 2011

      To LoVe 2015: हम न सुधरेंगे, बात इतनी सी

      क्या यात्रियों का कोई फर्ज नहीं?
      ‘’भाई साहब आपका बैग गीला हो गया है...’

      सामने खड़े यात्री ने मेरे पास बैठे सीआईएसएफ अधिकारी से कहा। उन्होंने तुरंत सीट के नीचे रखे बैग पर नजर डाली। बैग कुछ गीला सा था और नीचे थोड़ा पानी फैल गया था।
           ‘’लगता है बैग में रखी पानी की बोतल का ढक्कन खुला रह गया’’... अधिकारी बोला..। उसने तत्काल बैग खोलकर पीने के बोतल का ढक्कन ठीक किया। ‘’स्टेशन पर पीने के पानी सुविधा नहीं है इसलिए लेकर आना पड़ता है’’ अधिकारी के चेहरे पर शर्मिंदगी के भाव थे। 
          सुनकर मैंने आश्चर्य होकर उसकी तरफ देखा। सुरक्षाबलों के लिए पानी की सुविधा की कमी, वो भी राजीव गांधी मेट्रो स्टेशन जैसी जगह पर।
      ''अच्छा'' मैं बोला।
             मेट्रो की यात्रा में पसरा अजनबीपन दूर हो रहा था। इसी समय सहज होते वातावरण का फायदा उठाते हुए सामने खड़े लड़के ने मेरे और अधिकारी से बीच में बैठने की गुजारिश की। अधिकारी  पहले ही शर्मिंदा सा महसूस कर रहा था, सो वो किनारे हो गया। कोफ्त में भरा मैं भी जगह देने को मजबूर हो गया....चंद मिनट का सफर भी लोग खड़े होकर नहीं कर पाते। हद तो तब होती है, जब कई लोग बीमार होने की नौंटकी करने से भी बाज नहीं आते।  
           तभी अपने सामान को रास्ते पर एक साइड से दूसरी तरफ करते हुए एक स्थानिय व्यापारी ने बाहर निकलने वालों के लिए जगह बनाई..। सामान मेरे पैरों पर गिर पड़ा। ऐसा कई देर से हो रहा था, पर इस बार में झल्ला पड़ा।
      मैंने उस शख्स को झिड़कते हुए कहा .....“एक बार किनारे नहीं रख सकते..जो दरवाजे पर जमा रखा है सामान। मेट्रो को क्या टैंपो समझा है?

      “आपको क्या प्रारब्लम है'' वो मुझसे उलझने की कोशिश करता बोला..''जब मेट्रो वालों को नहीं हैं” 
      “ये बार-बार मेरे पैर पर गिर रहा है... इसे किनारे करो” .मैं गुस्से में थोड़ी उंची अवाजा में बोला। 
      “इतना आराम से जाना था तो टैक्सी कर लेते..” वो भी कुछ उंची आवाज में बोला..

         उसकी सीनाजोरी देखकर मुझसे गुस्सा आ गया..''ये सामान एक तरफ करो..वरना न तो मेट्रो अगले स्टेशन से आगे बढ़ेगी..न ही तुम मेट्रो से उतर पाओगे, समझे...”. मेरा पारा लेवल पार करने जा रहा था।

      तभी कुछ लोग बीच-बचाव करने लगे...”अरे थोड़ी देर का ही तो सफर है..कोई बात नहीं...भाई साहब आप भी चुप हो जाइए और आप भी जरा शांत हो जाईए”
      कूल-कूल मेट्रो
      पर मैं चुप नहीं रह सका। भड़क ही पड़ा "“मेट्रो  आरामदायक सफर के लिए ही है..पर इसका बेड़ा गर्क करने का ठेका आप जैसे लोगो ने ही ले रखा है..”  “एक तो गलत करते हैं..फिर उसका विरोध करने को तैयार नहीं होते...यथास्थिति से चिढ़कर कोई अवाज उठाए, तो उसे भी चुप कराने की कोशिश करते हैं आप लोग..” मैं बीच-बचाव करने वालों पर बरस पड़ा।

      “पर भाई साहब सुरक्षाकर्मियों ने आने दिया..तभी तो लोग सामान लेकर चढ़ते हैं, आखिर उन्होंने रोका क्यों नहीं” एक मुझसे बोला...।

      मैंने घूमकर अपने साथ बैठे सीआईएसएफ के अधिकारी की तरफ देखा..।
          “हम नियम का पालन करते हैं” .मेरी निगाहों में उठे सवाल को समझते हुए, वो मुस्कुराते हुए बोला...। “वजन कम हो तो रोकते नहीं...। वैसे इसमें गलती आप लोगो की भी है...आज पहली बार विरोध होते मैने देखा है”
          “पर आप लोगो को अंदर आने क्यों देते हैं इतने सामान के साथ”...मैं बोला।
         देखिए..ये सामान ज्यादा वजन का नहीं है..इसलिए नियम के तहत हम नहीं रोकते.और फिर हर चीज नहीं समझाई जा सकती है...ये तो लोगो को खुद भी सोचना चाहिए कि इससे दूसरों को परेशानी होगी...और अगर लोग विरोध करें, तो ये अपने आप रुक जाएगा...।

      वो व्यापारी तबतक चुप हो गया था। इसलिए मेरा ध्यान उसपर से हट गया था।
      “अगर दिल्ली पुलिस के हाथ होते तो पिटते सभी...हम नहीं मारते लोगो को”..वो अधिकारी फिर बोला.।
        मुझे हंसी आ गई। ‘’मगर आप क्यों नहीं सख्ती से निपटते’’..मैंने पूछा।
          वो मुस्कुराते हुए बोला ‘’सरजी लोग अक्सर तो इस शहर में परेशान ही दिखते हैं। कोई ऑफिस में बॉस से डांट खा कर लौटता है...तो कोई बीबी से लड़कर आया होता है...तो कोई देर होने की वजह से परेशान होता है..कई बार इस हालात में हमसे भी बदतमीजी करते हैं.लोग..। हम समझते हैं..इसलिए आखिर तक कुछ नहीं बोलते....ले जाओ ज्यादा सामान खुद ही परेशान होंगें..या लोग गाली देंगे तो शायद समझें।.

      ‘’वो तो ठीक है पर सुरक्षा के नियम भी तो होते हैं..’’ मैंने पूछा
      ‘’सर नियम हम कोई भंग नहीं होने देते....’’‘’कल ही एक लड़की शूटिंग राइफल लेकर आ गई...मना करने पर अड़ गई...पीछे-पीछे उसका बाप आ गया...बोला “तुम मुझे जानते नहीं..’’‘’मैने कहा नहीं सर, मैं आपको नहीं जानता....’’ कहकर सुरक्षाकर्मी हंस पड़ा...
      फिर ? मैं उत्सुक हो उठा जानने के लिए कि इस हालत में सुरक्षा अधिकारी क्या करते हैं।
      ''फिर क्या सरजी...मैं उसे लेकर बड़े अधिकारी के पास चला गया..उसका पूरा नाम पता नोट किया...आईंडेटिट कार्ड देखा..पूरे नियमानुसार काम किया तब जाकर उसे जाने दिया...'' फिर मुस्कुराता जवाब आया।
      सुरक्षा नियमों के प्रति सख्ती की बात सुनकर अंदर ही अंदर प्रसन्न हुआ..ये अहसास मेट्रो की पुख्ता सुरक्षा के प्रति भरोसे की खुशी भी थी।
      रोशन हैं जिनके दम से हम
      तभी वो बोल पड़ा...”पर लोगो को भी समझना चाहिए कि इतना सामान लेकर मेट्रो में सफर नहीं करना चाहिए। आज पहली बार आपको विरोध करते देखा है। बाकी लोग भी तभी बोले जब आपने सख्त लहजा अपनाया....लोग लगता है इस शहर में सच का साथ देने से भी कतराते हैं….। बस सुरक्षाकर्मियों से आशा रखते हैं कि वो ही सब करें" वो हंसता हुआ बोला।

         बड़े शहर का एक बड़ा सच....जिसे मुंह पर सुनकर आसपास वाले भी इधऱ-उधर देखने लगे...दरअसल किसी के पास जवाब नहीं था। मैं सोच में पड़ गया...क्या इन मुर्दों में से कोई, कभी भी किसी एक जगह विरोध करेगा?...
      पर उनके चेहरे देखकर लगा, ऐसा असंभव की हद तक मुश्किल है। 

      “पर शराबी लोगो को आप अंदर क्यों आने देते हैं...”मैंने फिर प्रश्न पूछा
      “क्या करें सर..उनके भी अजब किस्से हैं। कई शराबी तो इतने बदतमीज होते हैं कि पूछिए मत...कहते हैं कि मेट्रो क्या तेरे बाप की है...मेरी है मेट्रो, मैं चाहे पी के चढ़ूं या बिना पिए....” वो बोला।
      ''इन हालात में क्या करते हैं...उसे पीटने का मन नहीं करता....।'' मैंने पूछा
      ''नहीं....बेचारे पहले ही मरे होते हैं....हम क्या मारें...बस हम इतना ध्यान रखते हैं कि वो इतना न नशे में धुत हो कि पटरी पर गिर जाए..ज्यादा धुत होता है तो घुसने नहीं देते..चाहे कितनी गालियां दे...''सुरक्षाकर्मी मुस्कुराता हुआ बोला।

      "वैसे सबसे ज्यादा परेशानी कहां होती है.." मैं प्रश्न दागने से बाज नहीं आ रहा था।
      "सर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर...सुरक्षा अधिकारी ने बिना परेशानी के जवाब दिया।
      "क्यों" मैने पूछा...
      "अरे सर..वहां तो देश भर से लोग आते हैं..साथ में सामान का ढेर...कई लोग पहली बार दिल्ली आते हैं। मेट्रो मे भी पहली बार चढ़ रहे होते हैं...उन्हें पता नहीं होता नियम कायदों का। दूर-दराज से आये लोग..दिल्ली से अनजान...अब ऐसे में हम कोशिश करते हैं कि उन्हें ज्यादा दिक्कत नहीं हो. नियम समझाते हैं फिर सामान कि चेंकिंग करते हैं...भले ही लंबी लाइन लगी हो"..वो मुस्कुराता हुआ बोला।

      वो अधिकारी मुस्कुरा रहा था। बता रहा था कि कई मेट्रो स्टेशन पर पानी की समुचित व्यवस्था नहीं है। कहीं-कहीं तो जवान ज्यादा है इसिलए भी सुविधा कम पड़ जाती है।
      मुस्तैद हैं हम
      पर मेरी सोच में उस वक्त कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक, मुंबई से लेकर अरुणाचल तक फैली जल-थल-नभ की हमारी विशाल सीमाओं की रक्षा करते और अंदरुनी गद्दारों से जूझते सुरक्षाबलों की तस्वीरें घूम रही थी। राजधानी में भी इन्हें पीने का पानी घर से लेकर आना पड़ता है। फिर भी मुस्कुराते हैं ये जवान। यही सुरक्षाबल हैं...जिन्हें राजनीति इस्तेमाल करती है..लोग भी कम नहीं...एक जवान की गलती पर पूरे सुरक्षाबल को निशाने पर ले लेते हैं। ये सभी भूल जाते हैं कि यही सुरक्षाबल हैं, जिनके दम पर हमारे दिन सुरक्षित हैं...हमारी रातें रोशन हैं..हमारा हर सफर आरामदायक है। पर न लोग...न सियासत कभी सोचती है...बस सबको अपने आराम से मतलब है। काश ये मुर्दा लोग जग पाते और जान पाते कि इतनी परेशानी को झेलने के बाद भी सुरक्षाकर्मियों के रतजगे ही होते हैं, हमारी पुरसुकुन नींद के रखवाले। काश!!

      आज फिर मेट्रो के मेरे आऱामदायक सफर में एक सच आऱाम से मुस्कुराता हुआ मेरे सामने बैठा था।
      /a>
      FuLl MoViEs
      MoViEs To mOvIeS
      XXX +24 <

      To LoVe 2015: यादगार सफर का सच...

      पांच दिन से ब्लाग से पूरी  तरह कटा रहा हूं, वजह कुछ खास नहीं , बस आफिस टूर पर था, कुछ स्पेशल  स्टोरी शूट करने के लिए उत्तराखंड में चंपावत और खटीमा इलाके में टहल  रहा था । वैसे तो  मेरा इस इलाके में कई बार जाना हुआ है, पर इस बार ये दौरा मेरे लिए कुछ खास रहा । कुछ दिन पहले ही पता चला कि ब्लाग परिवार के मुखिया आद. रुपचंद्र शास्त्री  जी खटीमा ( रुद्रपुर)  में ही रहते हैं। मेरे रुट चार्ट में खटीमा भी शामिल था, मुझे वहां एक पूरे दिन रुकना था, क्योंकि एक स्टोरी मुझे इसी क्षेत्र में शूट करनी थी ।  मैने तय किया कि मुझे शास्त्री जी से मिलना चाहिए,  यहां आकर भी अगर उनसे मुलाकात ना करुं तो फिर ये बात ठीक  नहीं होगी ।
      लेकिन सच बताऊं तो मेरे मन में कई सवाल थे,  क्योंकि मुझे जुमा जुमां सात महीने हुए हैं  ब्लाग पर कुछ लिखते हुए ।  ब्लाग लिखने वालों में दो एक लोग ही हैं, जिनसे मेरी  फोन पर बात हो जाती है, वरना तो सामान्य शिष्टाचार ही निभाया जा रहा है । मेरा अभी तक एक भी ब्लागर साथी ऐसा नहीं है, जिनसे मेरी आमने सामने बात हुई हो । ऐसे में शास्त्री जी के पास जाने में कुछ दुविधा भी थी,  पता नहीं शास्त्री जी मुझसे मिलना चाहेंगे या नहीं, कहीं ऐसा ना हो कि मैं फोन कर उनसे मिलने का समय मांगू और वो ये कह कर कि आज मैं व्यस्त हूं, फिर कभी मुलाकात होगी । इस तरह के सैकडों सवाल जेहन में घर  बनाते जा रहे थे ।

      खैर मेरा मानना है कि जब आप किसी मुश्किल में हों और उससे उबरना चाहते हों तो परिवार से कहीं ज्यादा दोस्त पर भरोसा करना चाहिए। मैने भी अपने दोस्त का सहारा लिया, उन्होंने कहा क्या बात करते हैं, आप पहले उनके पास जाएं तो,  देखिए उन्हें बहुत अच्छा लगेगा। अच्छा मैं इस मत का हूं कि आप किसी भी मामले में मित्रों या परिवार के सदस्यों से राय तभी लें, जब उसे आपको मानना हो।  सिर्फ रायसुमारी के लिए राय नहीं ली जानी चाहिए। इसलिए जब मेरे दोस्त ने कहा कि आपको मिलना चाहिए, तो उसके बाद मेरे मन में कोई दूसरा सवाल नहीं  रहा।   मैने तुरंत शास्त्री जो को फोन लगाया और बताया कि मैं दिल्ली में रहता हूं और एक टीवी चैनल में काम करता हूं। मेरा एक ब्लाग है आधा सच इसमें  भी   कुछ लिखता  रहता हूं।   इस समय आपके शहर में हूं,  यहां  एक स्टोरी शूट करने के सिलसिले में आना हुआ है । बस दो मिनट मुलाकात करने का मन है। शास्त्री जी ने  कहा कि जब चाहें यहां आएं और हम बैठकर आराम से बातें करेंगे। शास्त्री जी  ने जिस तरह से पहले  वाक्य को पूरा किया, लगा ही नहीं कि हम किसी ऐसे शख्स से बात कर रहे हैं, जिनसे मेरी पहली बार बात हो रही है।

      मित्रों मैं तो थोड़ा उदंड हूं ना, मुझे लगा कि कहीं शास्त्री जी भूल ना जाएं कि किससे बात हुई थी, मुझे  सारी बातें फिर से  ना दुहरानी  पड़े, लिहाजा मैने कहा  चलो  तुरंत सभी काम बंद करते हैं और पहले आद. शास्त्री जी से ही मुलाकात करते हैं ।  वैसे भी खटीमा एक छोटा सा कस्बा है। यहां लगभग सभी लोग सब को जानते हैं । उन्होंने एक नर्सिंग होम का नाम बताया और कहा कि यहां आकर किसी से पूछ  लें सभी लोग मेरे बारे में बता देगें , आपको यहां पहुंचने में असुविधा नहीं होगी।  फोन काटने के बाद मै अपने ड्राईवर को नर्सिंग होम के बारे में बता ही रहा था कि हमारे  वहां के स्थानीय मित्र ने कहा किसी से पूछने की जरूरत नहीं, चलिए मैं घर पहुंचाता हूं, और अगले पांच मिनट के बाद ही हम शास्त्री जी के घर के बाहर खड़े थे।
      हमारी गाड़ी रुकते ही शास्त्री जी खुद बाहर आ गए, बड़े ही आदर के साथ हम लोगों से मिले और हम सब उनके निवास  परिसर में ही बने उनके आफिस में चले गए। दो मिनट के सामान्य परिचय के बाद लगा ही नहीं कि हम शास्त्री जी से पहली बार मिल रहे हैं। यहां मैं शास्त्री जी से माफी मांगते हुए मैं एक बात का  जिक्र करना चाहता हूं कि  मेरे मन मे शास्त्री  जी की जो तस्वीर थी, ये उसके बिल्कुल उलट थे। मुझे लगता था कि बुजुर्ग शास्त्री जी आराम कुर्सी पर बैठे होंगे, उनका कम्प्यूटर आपरेटर  उनकी  बातों को कंपोज करने के बाद  ब्लाग पर  डालता होगा..। लेकिन ऐसा कुछ नहीं, शास्त्री जी खुद कम्प्यूटर की बारीकियों को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं।  मैं उनके साथ बैठा, उन्होंने तुरंत मेरा ब्लाग खोला,  ब्लाग खोलने में कुछ दिक्कत आई।

      शास्त्री जी ने  खुद ही देखा कि आखिर ऐसी क्या दिक्कत हो सकती है। उन्होंने तीन मिनट में ब्लाग की दिक्कतों को समझ लियाऔर अगले ही पल उसे दुरुस्त भी कर दिया। ब्लाग का  डिजाइन बहुत ही साधारण देख उन्होंने खुद ही कहा कि चलिए इसे  कुछ आकर्षक बनाते हैं।  ब्लाग के बारे में दो एक बातें करने के बाद उन्होंने देखते ही देखते  मेरे ब्लाग को बिल्कुल अपडेट कर दिया। मैं उनके कम्प्यूटर के प्रति प्रेम और जानकारी को देखकर हैरान था, सच बताऊं तो उन्होंने इसकी तकनीक से जुड़ी दो एक बातों के बारे में मुझसे पूछा तो मैं बगलें  झांकने लगा।

      बहरहाल एक घंटे की मुलाकात में मैं समझ चुका था  कि शास्त्री ने जो अपना जो परिचय ब्लाग के पृष्ठ पर डाला है, वो उनका पूरा परिचय नहीं है, सच कहूं तो आधा भी नहीं । शास्त्री जी वो  व्यक्तित्व  हैं, जिन्हें लगता है कि लोग उनसे जितना कुछ हासिल कर सकते हैं कर लें. वो अपना पूरा ज्ञान और अनुभव युवाओं पर लुटाने को तैयार बैठे हैं, लेकिन हम उनसे सीखना  ही नहीं चाहते।  मेरी छोटी सी मुलाकात के दौरान मैने महसूस किया कि वो चाहते हैं कि हमे कितना कुछ हमें दे दें, लेकिन जब हम लेने को ही तैयार नहीं होंगे तो भला वो क्या कर सकते हैं।
      सच बात  तो ये है  कि उनके पास से उठने का मन बिल्कुल नहीं हो रहा था, पर समय और ज्यादा देर तक बैठने की इजाजत भी नहीं दे रहा था,  क्योंकि पहाड़ों में शाम जल्दी हो जाती है, और शाम होते ही हमारा काम  बंद हो जाता है, यानि कैमरे भी आंखें मूंद लेते हैं। इसलिए मुझे बहुत ही बेमन से कहना पडा कि शास्त्री जी अब मुझे जाना होगा। मैने महसूस किया कि शास्त्री जी का भी मन नहीं भरा था बात चीत से, वो भी चाहते थे कि हम  थोड़ी देर और बातें करें, लेकिन मैने यह कह कर कि वापसी में मैं एक बार फिर आपसे मिलकर ही जाऊंगा, लिहाजा हम दोनों लोग कुछ सामान्य हुए।  
      हम तो चलने के लिए उठ खड़े हुए,  लेकिन शास्त्री जी ये सोचते रहे कि कुछ देना अभी बाकी रह गया है, उन्होंने मुझे रोका और अपनी लिखी दो पुस्तकें मुझे भेंट कीं।  सच तो ये है कि शास्त्री जी से मुलाकात की कुछ निशानी मैं भी चाहता था, लेकिन मांगने की हिम्मत भला कैसे कर सकता था, पर शस्त्री जी इसीलिए आदरणीय हैं कि वो लोगों के मन की बात को भी पढना  जानते हैं।  बहरहाल इस यादगार मुलाकात के हर क्षण को मैं खूबसूरती से जीना  चाहता हूं।   



      /a>
      FuLl MoViEs
      MoViEs To mOvIeS
      XXX +24 <

      शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

      To LoVe 2015: Mostly asked Banking General Awareness Question and Answers

      "
      The Upcoming 19 C.W.E Common Written Examination bank exam of 19 bank in India, contain an important section of Banking General Awareness. so here we go with common Most asked terms that we not read care fully, please read carefully as this section helps you to take 50 out of 50 marks just in 10 minutes as fast as you practice.
      This Exam contain some Banking questions and some General Knowledge Questions related to current affairs.




       You can also click the link to visit the Proper 100% Correct  information.

               Answer: 

        Q.2 What is a Repo Rate (RR)?
               Answer:
        • In a very simple way RR is,when bank borrow rupees from RBI. 
        • मतलब  जब बैंक  उधार  लेते हैं RBI से उसको रेपो रेट कहते  हैं !!
        • So a reduction in the repo rate will help banks to get money at a cheaper rate.
        • And as the repo rate increases, borrowing from RBI becomes more expensive.
          • .................Hope you understand..........


        Remember only till Date Nov-Dec 2011:-
        • Till On Date Nov 2011, Repo Rate (RR) is:  8.50%
        • Till On Date Nov 2011, Reverse Repo Rate (RRR) is:  7.50%, 1 minus from RR
        • Till On Date Nov 2011, Bank Rate is:  6%
        • And Marginal Standing Facility Rate : 9.50%       


        Also: 
        • CRR                         : 6.0% 
        • SLR                          : 24.0%
        • Deposit Rate            : 8.50%-9.25%
        • Savings Bank Rate  : 4.0%
        • Deposit Rate            : 8.50%-9.25
        • Base Rate                : 10.00%-10.75%

        Q.3 Name of RBI Governor:
        Answer: 

          RBI Related some facts:

          Establishment of RBI
          • The Central Office of the Reserve Bank initially in Calcutta but after permanently moved to Mumbai in 1937.

          • Firstly originally privately owned.

          • Fully Nationalisation in 1949, the Reserve Bank is fully owned by the Government of India. 

          RBI Moto :
           "...to regulate the issue of Bank Notes and keeping of reserves with a view to securing monetary stability in India and generally to operate the currency and credit system of the country to its advantage." 

          ;;
          ;:
          ;:
          .

          Current Affairs questions with answers"
          • Shooter Gagan Narang got Rajiv Gandhi Khel Ratna award in Rashtrapati Bhawan New Delhi.he is a shooter .

             

          Still some Updates are their....stay Tuned.....  Thanks
          "
          /a>
          FuLl MoViEs
          MoViEs To mOvIeS
          XXX +24 <

          बुधवार, 23 नवंबर 2011

          To LoVe 2015: 42nd Indian International Film Festival begins at Margao in Goa

          "
          The quick update about the 42nd International Film Festival of India begin with a delightful pleasure in everyone face.Main celebrity named Shah Rukh Khan and Madhuri Dixit-Nene, recently back in India from US arrive at Goa today evening to flag off the 42nd International Film Festival of India (IIFI). 
           Some Facts:


          • IFFI has been inaugurated at Ravindra Bhavan auditorium in Margaon, Goa on November 23rd,2011.
          • Union Minister of Information and Broadcasting, Ambika Soni and Goa Chief Minister, Digambar Kamat and Shahrukh Khan formally lighted the traditional lamp shows the commencing of the 10 day long magnanimous extravaganza.
          • Mrs. Ambika Soni said that in every year the more and more people join the  festival as the participation of cinema lovers is rising year by year.
          • The Information and Broadcasting Minister Ambika Soni gave away the life time achievement award to eminent French Film Maker, Bertrand Tavernier.
          Name of the opening movie:
          • Portuguese film, The Consul of Bordeaux, was the opening movie of the event.
          • The Indian panorama starts screening of the Malayalam film ‘Urumi’, on Next day.
          • More than 150 movies from 65 countries will be screened during the festival during the 10 day festival.

          Theme of the festival:
          • ‘Vasudheva Kutumbkam’ it  meaning the Whole World is One Family.


          The closing ceremony :
          • The  Tamil star Suriya among other celebrities, perform on that day.

          "

          More at: NDTV and NEWSONAIR
          /a>
          FuLl MoViEs
          MoViEs To mOvIeS
          XXX +24 <

          To LoVe 2015: NEW Bajaj Bike BOXER 150cc in INDIA and Overseas

          "
          Bajaj Auto Limited launched the all brand new Bajaj Boxer 150 in India.Made for  the smaller towns need a powerful, rugged utility bike.


          Price and Milege:
          The ex-showroom price of Boxer-BM 150 is Rs.43,009.
          The BM-150, under ideal conditions: mileage of 60 kmpl.
          Main Focus:
          The boxer has been designed as an SUV on two wheels to specifically meet their requirement, said by the Bajaj Personal.
          The Boxer 150 is equipped with ExhausTec technology, which is environmentally friendly and fuel-efficient, the company said in a statement.


          Photo Gallary:





          Also the Boxcer Bike launch in Overseas, Egypt also:
          Egyptian market is intended to serve the middle class and low-income people and help them accomplish purposes of trade, professional and small projects that will improve their living conditions. As per BS NEWS

          "
          /a>
          FuLl MoViEs
          MoViEs To mOvIeS
          XXX +24 <

          सोमवार, 21 नवंबर 2011

          To LoVe 2015: First Time in 33-month too much low Indian Rupee 52.16 against the US dollar.

          "
          Today on Nov 20 2011,Indian  rupee was a too record low on strong dollar demand from local importers, That cause worries with the  foreign investors as they flee from riskier assets and markets due to the global economic turbulence also weighing. The Reserve Bank of India (RBI) sold dollars early in the morning  51.79 per dollar, but the selling pressure on the rupee was too high and leads to 52.16(Oh My God).

          Rupee Vs Dollor Click to know More...


          Main Points:
          • During the whole day, the rupee had dipped from 51.13 to  52.16 -- The weakest since March 3, 2009 -- and just shy of its record low of 52.20 hit on the same day. :(


          Planning Commission Deputy Chairman Montek Singh Ahluwalia  said in an interview to CNBC TV 18:
          • "Globally, people are downgrading growth rates and we have also been affected," Ahluwalia said while pointing out that Prime Minister Manmohan Singh, during his recent visit to Indonesia, had projected growth to be around 7.5 per cent.  


          "Globally, people are downgrading growth rates and we have also been affected," Ahluwalia said while pointing out that Prime Minister Manmohan Singh, during his recent visit to Indonesia, had projected growth to be around 7.5 per cent.

          Due to Such Statement we Lead to Our Downfall as per My Source.
           


          Reason Behind Low Indian Rupee in International Market:

          A weaker rupee is a matter of concern for India is bcoz as our  imports for over 70 per cent of its oil and gas requirements and the depreciation of the local currency has made imports more expensive.

          "



          Read more at: NDTV
          /a>
          FuLl MoViEs
          MoViEs To mOvIeS
          XXX +24 <

          To LoVe 2015: चार जेपी और दो अन्ना पैग...

          मित्रों दो दिन पहले मैं कुछ दोस्तों के साथ यहां पांच सितारा होटल के बार में था। हमारा मित्र आस्ट्रेलिया से आया हुआ था, उसे वापस जाने के लिए रात तीन बजे की फ्लाइट पकड़नी थी, हम सबको साथ मिले भी काफी समय हो गया था, तो तय हुआ कि यहीं बार में  बैठकी कर ली जाए । सो हम सब  वहां जमा हो गए। वैसे " बार "में   अक्सर आना जाना रहता है, पर आज यहां  मुझे कुछ नई चीज देखने को मिली।

          सच बताएं, मैं तो  समझता था कि देश का अमीर तपका बाकी देश और लोगों से पूरी तरह कटा हुआ है। उसे कोई मतलब नहीं कि देश में हो क्या रहा है। लेकिन मेरा ये भ्रम इस पांच सितारा होटल के बार में टूट गया। मैन महसूस किया कि देश का अमीर तपका भी इस गंदगी से उतना ही त्रस्त है, जितना आम आदमी।

          पांच सितारा  बार में अंग्रेजी में गिट पिट करने वालों के मुंह से  देश, ईमानदारी, भ्रष्टाचार, अनशन, रथयात्रा, जेल, रामलीला मैदान,  जंतर मंतर, जेपी, अन्ना   जैसे शब्द सुनकर मै हैरान था। हुआ ये कि  पास  की ही  टेबिल पर कुछ नौजवान अपनी गर्ल फ्रैंड का  बर्थडे  सेलीबिरेट कर रहे थे। इस दौरान उनकी बात चीत का विषय जेपी आंदोलन बनाम अन्ना  का आंदोलन था। मुझे लगा कि इस इंडिया ( यानि बार ) में भी भारत की चर्चा होती है, मैं वाकई हैरान था। हांथ मे वाइन का गिलास थामें  लड़कियों का  कहना था कि जेपी के आंदोलन के मुकाबले अन्ना का आंदोलन बहुत बड़ा है,  जबकि इसी टेबिल पर बैठे  कुछ लोगों का कहना था कि नहीं नहीं जेपी के आंदोलन का कोई मुकाबला हो ही नहीं सकता।

          जो यहां सबसे ज्यादा समझदार नजर आ रहा था, उसने फैसला दिया कि भाई आप लोगों ने जेपी आंदोलन को तो किताबों में पढ़ा है और अन्ना के आंदोलन को देख रहे हैं। इस लिए भावनात्मक रुप से आप अन्ना के साथ जुड़े हैं। वैसे भी जेपी की लड़ाई आसान नहीं थी, वो  अब तक की सबसे मजूबत  प्रधानमंत्री स्व. श्रीमति इंदिरा गांधी के खिलाफ लड़ रहे थे और अन्ना अब तक के सबसे मजबूर प्रधानमंत्री से संघर्ष  कर रहे हैं। इसलिए इस पर तो विवाद  तो होना ही नहीं  चाहिेए कि कौन सा आंदोलन बड़ा था,  और कौन सा छोटा है।

          बहरहाल ये बात चल  ही रही थी कि  इस बीच उनके टेबिल पर वेटर आ गया। वेटर को  एक नौजवान आर्डर नोट कराने लगा।  बोला चार जेपी पैग और दो अन्ना पैग के साथ  सींक कबाब लाना मत भूलना। हालाकि  वेटर के चेहरे से साफ लग रहा था कि वो जेपी पैग और अन्ना पैग समझ नहीं पा रहा है, लेकिन दोबारा पूछ लिया तो फिर पांच  सितारा के वेटर की काबीलियत पर  सवाल नहीं खड़ा हो जाएगा। लिहाजा वो चुपचाप  अपने सुपरवाईजर के पास गया और बताया कि ऐसा आर्डर किया गया, जो उसकी समझ में ही नहीं आ रहा है। काफी देर तक पूरे बार में तैनात अधिकारी कर्मचारी परेशान रहे, लेकिन ये आर्डर किसी के समझ में नहीं आया। लिहाजा उनका सुपरवाईजर खुद टेबिल पर आया और पूछा कि जेपी पैग और अन्ना पैग को लेकर हम सब कुछ कनफ्यूज हैं।  कुछ और बताइये । टेबिल पर बैठे लडकों ने ठहाका लगाया और सुपरवाईजर से पूछा देश में जेपी  का आंदोलन बडा था या फिर अन्ना का। उसने  जवाब दिया कि सर जेपी का आंदोलन बड़ा था। युवकों कहा सिम्पल फिर क्या बात आपकी समझ में नहीं आ रही है। जेपी मतलब बडा़ यानि पटियाला पैग 60 एमएल और अन्ना मतलब छोटा 30 एमएल का पैग दो।

          सुपरवाईजर मुस्कुराया और आर्डर की तैयारी में लग गया। बहरहाल नौजवानों की ये बात सुनकर पहले तो थोडा मुझे भी हंसी आई, पर मुझे इस बात का संतोष था कि देश  का युवक भी कम से कम आम आदमी के सरोकारों से जुडा तो हैं। भले ही उसका अंदाज कुछ भी हो।

          बहरहाल मित्रों देश मे एक बार फिर लड़ाई की बिसात बिछ चुकी है। कल यानि 22 नवंबर से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होना है। इसमे फैसला हो जाएगा कि सरकार वाकई भ्रष्टाचार को लेकर गंभीर है या नहीं। संसद में टीम अन्ना के मनमाफिक जनलोकपाल बिल लाया जाता है, या फिर महज खानापूरी की जाती है, इस पर  सभी की निगाह टिकी हुई है। लेकिन इतना तो तय है कि देशवासी इस मसले को लेकर गंभीर  हैं, उन्हें भी टीम अन्ना की तरह ही खाते पीते सोते जनलोकपाल बिल की चिंता सताए जा रही हैं।

          ऐसे में मुझे लगता है कि सरकार किसी तरह का रिस्क लेने को तैयार नहीं होगी, क्योंकि विपक्ष भी इस मामले को लेकर  गंभीर है। आडवाणी जी ने अपनी यात्रा के जरिए देश को जगाने का काम किया है, पता नहीं वो कांग्रेस नेताओं को जगाने में कामयाब हो पाए या नहीं, ये तो संसद में बिल पेश किए जाने पर ही पता चलेगा।

          /a>
          FuLl MoViEs
          MoViEs To mOvIeS
          XXX +24 <